Home वजन घटना Weight loss by eating corn at night | Raat Ko Makka Khaane...

Weight loss by eating corn at night | Raat Ko Makka Khaane Se Vajan Kam Hota Hai | रात को मक्का खाने से वजन कम होता है

- Advertisement -
- Advertisement -
- Advertisement -

मक्के का सेवन करके कैसे वजन कम करें और जानें इसके बेहतरीन मक्का खाने के फायदे, Weight loss by eating corn at night

Weight loss by eating corn at night : दोस्तों हमारे भारत देश में ऐसा कौन सा व्यक्ति होगा, जिसे भुने हुए मक्के और इसकी रोटियां खाना पसंद नहीं होगा। जितने भी अनाज मौजूद हैं, इनमें से यह एक मोटे दाने वाला अनाज होता है। आज कई लोग मक्के के बने हुए पॉपकॉर्न को खाना बेहद पसंद करते हैं, परंतु ऐसे लोगों को इसके और भी फायदों के बारे में बिल्कुल जानकारी नहीं होती है।

वैसे तो यह मोटे दाने वाला अनाज है, परंतु इसके सेवन से आपको अनेकों प्रकार की बीमारियों से और स्वास्थ्य संबंधित अन्य लाभ भी मिलता है। यदि आप अपने बढ़ते हुए वजन को कम करने के लिए ऐसा कोई घरेलू तरीका तलाश कर रहे हैं, जिसके माध्यम से आपका वजन काफी हद तक कम हो जाए और आपको इसके पीछे ज्यादा पैसे भी ना खर्च करने पड़े।

मक्का एक ऐसा अनाज है, जो वजन घटाने में भी काफी ज्यादा कारगर है।यह कैसे वजन घटाने में कारगर है, आइए आपको इस लेख के माध्यम से हम विस्तार पूर्वक से बताते हैं। यदि आप वजन घटाने के लिए इच्छुक हैं तो हमारे इस महत्वपूर्ण लेखकों कृपया अंतिम तक अवश्य पढ़े, हो सकता है, यह लेख आपके लिए काफी लाभकारी सिद्ध हो जाए।

Table of Contents

मक्का या फिर भुट्टा क्या होता है ? ( Corn information in Hindi )

वैसे तो हमारे भारत देश में मक्के की खेती बड़े पैमाने पर की जाती है और यह भारत के अनेक अनेक प्रदेशों में भुट्टे के नाम से भी काफी ज्यादा प्रसिद्ध है। जितने भी अनाज हैं, उनमें से यह सबसे मोटे दाने वाला अनाज माना जाता है। हमारे देश में लोग इसे बड़े ही चाव से खाते हैं और यहां तक कि बूढ़े बुजुर्ग भी मक्के का सेवन रोटी या फिर अन्य रूपों में भी करना पसंद करते हैं।

यदि हम मक्के के वैज्ञानिक नाम के बारे में जानें तो, इसे जीमेज के वैज्ञानिक नाम से जाना जाता है। इसकी खेती भारत में लगभग बड़े पैमाने पर बिहार, आंध्र प्रदेश, कर्नाटक, राजस्थान और उत्तर प्रदेश में की जाती है। इसकी खेती लगभग मैदानी इलाकों से लेकर 2700 मीटर की ऊंचाई वाले पहाड़ों के क्षेत्रों में भी की जाती है। इसके अतिरिक्त विश्व भर में इसे चीन, ब्राजील, मेक्सिको और अमेरिका जैसे देशों में भी मक्के की खेती बड़े पैमाने पर शुरू कर दी गई है।

मक्का कितने प्रकार का होता है ? (Information about types of corn in Hindi )

आइए अब हम आपको मक्के के स्वाद रंग और इसके अनेकों प्रकार के बारे में बताते हैं। मक्के को रंग एवं स्वास्थ्य के आधार पर अनेकों प्रकार के भागों में विभाजित किया गया है, जो इस प्रकार से निम्नलिखित हैं।

  • येलो डेट कॉर्न :-

    इस प्रकार के मक्के का इस्तेमाल इथेनॉल के उत्पादन में किया जाता है। एक प्रकार से यह एक अल्कोहल का ही रूप इथेनॉल होता है। इस पदार्थ को पेट्रोल में मिश्रित किया जाता है और फिर यही वाहनों ने भी इस्तेमाल में आता है।

  • स्वीट कॉर्न :-

    इसे हम मीठे मक्के के रूप में जानते हैं और यह हमारे बाजार में बिलकुल आसानी से किराने की दुकान पर मिल जाता है।

  • सफेद कॉर्न :-

    इस प्रकार के मक्के का उपयोग भोजन में और चिप्स आदि के उत्पादन में किया जाता है।

  • हाई एमाइलोज कॉर्न :-

    मक्के के इस वाले प्रकार में स्टार्च की मात्रा अत्यधिक रूप में पाई जाती है, जिसकी वजह से लोग इसे अत्यधिक मात्रा में टेक्सटाइल इंडस्ट्री में इस्तेमाल करना पसंद करते हैं।

  • पॉप कॉर्न :-

    जैसा कि हमने आपको शुरुआत में ही बताया लोग पॉपकान को खाना बेहद पसंद करते हैं और जब हम इसे गर्म करते हैं, तो यह बड़े बड़े आकार में हो जाता है। मक्के के इस प्रकार को खाने में लोग अत्यधिक पसंद करते हैं।

  • रेड कॉर्न :-

    यदि हम मक्के के इस स्वरूप का इस्तेमाल करें, तो यह में खाने में अखरोट के जैसे लगता है।

  • ब्लू कॉर्न :-

    इस प्रकार के मध्य का इस्तेमाल अनेकों प्रकार के खाद्य पदार्थों को बनाने में किया जाता है। चिप्स आदि जैसे खाद्य पदार्थ बनाने में मक्के का इस्तेमाल सबसे अधिक मात्रा में किया जाता है।

  • ओर्नामेंटल कॉर्न :-

    यह हमारे भारत देश के अनेकों प्रकार की मक्का की प्रजातियों में से एक और इस प्रकार की मक्का की प्रजाति हमारे देश में अनेकों रंगों एवं रूपों में भी पाई जाती है।

मक्के में आखिर ऐसा कौन सा पोषक तत्व मौजूद होता है, जो सेहत को फायदेमंद है ? (Corn nutrients information in Hindi )

ऐसे बहुत से लोग हैं जो मक्के के अनंत फायदे के बारे में तो जानते हैं, परंतु इसमें कुछ ऐसे पोषक तत्व मौजूद होते हैं, जिनके बारे में लोग खासकर नहीं जानते हैं। मक्के के अंदर हमें फैट, कार्बोहाइड्रेट, प्रोटीन और फाइबर आदि जैसे अनेकों प्रकार के विटामिंस और पोषक तत्व मौजूद मिलते हैं।

यदि हमारे शरीर में किसी भी प्रकार के पोषक तत्व या न्यूट्रिएंट्स की कमी होती है, तो हम इस परिस्थिति में मक्के का सेवन करके उन सभी पोषक तत्व की भरपाई कर सकते हैं, जिनकी कमी हमारे शरीर में मौजूद हो रही है।

इसके अतिरिक्त मक्के के सेवन से त्वचा, बाल और स्वास्थ्य संबंधित अनेकों प्रकार की समस्याएं भी दूर हो जाती हैं।यही सबसे बड़ा कारण है, कि आज चिकित्सा प्रणाली दृष्टिकोण से भी लोग मक्के का सेवन स्वास्थ्य के लिए करते हैं और यह काफी लाभकारी भी है।

किस प्रकार से मक्का वजन को कम करने में सहायक है ?(weight loss using corn in Hindi)

जहां मक्का अनेकों स्वास्थ्य संबंधित समस्याओं को दूर करने में सहायक है, वहीं पर मक्का बढ़ते हुए वजन को काम करने में भी हमारी काफी सहायता करता है। मोटे दाने वाला अनाज मक्के में हमें कम वसा और भरपूर मात्रा में कार्बोहाइड्रेट मिलता है, जिन भी खाद्य पदार्थ में कम वसा और कार्बोहाइड्रेट की मात्रा अच्छी होती है, उनके सेवन से हमारे स्वास्थ्य को अनेकों प्रकार के लाभ होते हैं।

इसीलिए आप चाहे तो अपने सुबह के नाश्ते में मक्के को किसी भी रूप में सेवन कर सकते हैं।जैसा कि इसमें फाइबर की भी मात्रा अधिक होती है, तो यह पाचन संबंधित भी काफी अच्छी सहायता लोगों की करता है, जो अपने पाचन तंत्र से काफी ज्यादा परेशान रहते हैं।

फाइबर मक्के में मौजूद होता है और फाइबर ही एक ऐसा पोषक तत्व है, जो अन्य प्रकार के खाद्य पदार्थों के मुकाबले काफी ज्यादा समय तक हमारे पेट में रहता है और जिसकी वजह से हमें लंबे समय तक भूख नहीं महसूस होती है। हमारे शरीर में अतिरिक्त वसा का निर्माण हो रहा होता है, तो फाइबर इस परिस्थिति में उनको कम भी करता है।

यदि हम अपने भोजन में वाइबर को शामिल करते हैं, अत्यधिक मात्रा में मौजूद कैलोरी को कम करने में सहायक होता है। यह एक ऐसा खनिज है, जो विटामिन और एंटीऑक्सीडेंट जैसे अन्य पोषक तत्वों का स्रोत भी माना जाता है। मक्के के सेवन से आंखों की, हड्डियों की और पाचन तंत्र जैसी समस्याएं यदि आपको है, तो इससे दूर हो सकती हैं।

यदि हम वजन को कम करने के लिए मक्की का सेवन करें, तो यह पूरी तरीके से आपके वजन को तो गम नहीं करता है, परंतु यह आंशिक रूप से जरूर आपके शरीर में मौजूद अत्यधिक चर्बी की मात्रा को कम करता है। मक्का एक प्रकार से सुपाच्य भोजन होता है, जो वसा या फिर कैलरी को जलाता है और इसी प्रकार से हमारे शरीर में मौजूद मोटापे को भी यह कम करने में सहायक होता है।

मक्के के सेवन के लिए हमें अनेकों प्रकार के डॉक्टर, आहार विशेषज्ञ, जिम ट्रेनर, खिलाड़ी एवं अन्य ऐसे प्रोफेशनल वाले व्यक्ति सलाह देते हैं, जो अपने स्वास्थ्य को सही रखना चाहते हैं। मक्के में हमें प्रोबायोटिक स्रोत भी मिलता है, इसके वजह से हमारी आंख में जो अच्छे बैक्टीरिया होते हैं, उनको यह बढ़ाने में हमारी सहायता करता है एवं पाचन को सही रूप देने में भी सहायक है।

मक्के में अनेकों प्रकार के अच्छे गुण मौजूद होते हैं, जिसकी वजह से एक प्रकार से चयापचय पदार्थ भी है और अंततः यह वजन और पेट में मौजूद अत्यधिक वसा को कम करने में सहायक होता है और जिसकी वजह से हमारे पढ़ते हुए वजन में कमी जाती है। इन सभी स्वास्थ्य संबंधित अनगिनत फायदों की वजह से ही हम मक्के को अपने अन्य खाद्य पदार्थों की सूची में जोड़ कर सकते हैं और इसका सेवन करके अनेकों स्वास्थ्य संबंधित लाभ भी उठा सकते हैं।

हम कैसे मक्के को अपने वजन को कम करने के लिए खाद्य पदार्थों की सूची में जोड़ें ? (How to eat corn for losing weight in Hindi)

यदि आप मक्के को अपने आहार में वजन को कम करने हेतु शामिल करना चाहते हैं और यह भी चाहते हैं कि इसका सेवन हम अनेकों रूपों में करें तो वह किस प्रकार से पहले तो हमारे द्वारा कुछ इस प्रकार के तरीके बताए गए हैं। जिससे आप बड़ी ही आसानी से मक्के का सेवन स्वाद लेने के साथसाथ वजन को कम करने में भी सहायक होगा। इसके अतिरिक्त हम आपको यह भी बताएंगे कि आपको किनकिन मक्का के सेवन के तरीकों से बचना है, जो आपके लिए उचित नहीं है।

  • मक्के का चाट :-

    अगर आप मक्के का सेवन एक ही रूप में कर कर के थक चुके हैं और आप इसके एक ही स्वाद से परेशान हैं, तो आपको बिल्कुल भी निराश होने की आवश्यकता नहीं है। आप चाहे तो मक्के का चाट भी बना कर खा सकते हैं, यह आपके लिए बिल्कुल हानिकारक नहीं है और आप इसके अन्य लाभों का भी अपने स्वास्थ्य में समाहित कर सकते हैं।मक्के के इस रूप में भी सेवन करने से आप का पाचन तंत्र मजबूत होता है और आपका वजन कम होता है।

  • मक्के का सलाद :-

    आपको भोजन के साथ सलाद खाना भी पसंद है और इसमें आप कुछ कुरकुरा भी खाना पसंद करते हैं, तो आप इस दृष्टिकोण से मक्के को भी अपने सलाद में जोड़ सकते हैं। आपके खाने के स्वाद को भी लजीज करेगा और साथ में आपको स्वास्थ्य संबंधित भी लाभ प्रदान करेगा।

  • मिक्स वेज स्टिर फ्राई :-

    आप चाहे तो मक्का, शिमला मिर्च, स्प्रिंग अनियन आदि जैसी पोस्टिक सब्जियों का एक मिक्स वेज सब्जी बना सकते हैं। सब्जी काफी स्वादिष्ट और आपके स्वास्थ्य के लिए भी लाभकारी होगी और आप इसमें अपना वजन कम करने के लिए मक्के का सेवन भी कर सकेंगे।

किनकिन प्रकार के मक्के के आहार से हम वजन घटाने हेतु परहेज करें ? (Which type of corn recipe to avoid on weight loss in Hindi)

यदि आप वजन कम करने हेतु सीरियस है और आप हर हाल में अपने बढ़ते हुए वजन को कम करना चाहते हैं तो कुछ ऐसे मक्की के बने हुए व्यंजन होते हैं, जिन्हें हमें नहीं खाना चाहिए, इसे हमें अनदेखा करना ही सही रहेगा।चलिए जानते हैं, मक्के के बने हुए कौन कौन से व्यंजन हैं, जिन्हें आप को बिल्कुल नहीं सेवन करना है।

  • कॉर्न फ्लेक्स :-

    यदि दूध के साथ कुछ खाने का मन करता है, तो हम आज के समय में सबसे पहले कॉर्न फ्लेक्स का इस्तेमाल करना पसंद करते हैं। मगर आपकी जानकारी के लिए हम आपको बता देते कॉर्न फ्लेक्स में अत्यधिक मात्रा में कार्बोहाइड्रेट मौजूद होता है और इसके अतिरिक्त इसमें प्रोटीन की मात्रा भी बहुत कम होती है। यही सबसे बड़ा कारण है, कि आपको यदि वजन कम करना है, तो इस प्रकार के आहार से बचना होगा।

  • थिएटर पॉपकॉर्न :-

    हम और आप जब कहीं पर मूवी देखने के लिए सिनेमा हॉल में जाते हैं, तो हमें कुछ मूवी देखते हुए खाना पसंद होता है। ऐसे में हम बारबार के थिएटर पॉपकॉर्न को खाने के रूप में इस्तेमाल करते हैं। इस प्रकार हम बड़ी मात्रा में जब भी सिनेमा देखने जाते हैं, तब कैलोरी को खाते हैं, क्योंकि थिएटर पॉपकान में अत्यधिक मात्रा में कैलोरी पाई जाती है, जो वजन घटाने में बिल्कुल सहायक नहीं होता है।

  • मलाई से भरपूर व्यंजन :-

    यदि हम वजन कम करना चाहते हैं, तो ऐसे परिस्थिति में हमें क्रिम, मक्खन या फिर दूध से बनी हुई अनेकों प्रकार की चीजों का सेवन अत्यधिक मात्रा में नहीं करना चाहिए। ऐसे बहुत सी चीजें हैं, जिसमें मक्के के व्यंजन को बनाने के लिए क्रीम, मक्खन या फिर दूध आदि का इस्तेमाल किया जाता है, इसीलिए आपको जिस भी मक्के के व्यंजन में यह सभी चीजें मौजूद मिले, उन्हें हमें इस्तेमाल करने से बचना चाहिए।

  • संवैधानिक चेतावनी :-

    इस लेख के माध्यम से केवल आप सभी लोगों को सामान्य रूप से जानकारी प्रदान कर रहे हैं और हमारे द्वारा बताए गए इन सभी तरीकों को आज बिना भी किसी विशेषज्ञ या चिकित्सक के सलाह के बिना इस्तेमाल ना करें। यह आपके स्वास्थ्य को हानि भी पहुंचा सकता है। इसीलिए कोई भी प्रक्रिया को इस्तेमाल करने से पहले आप एक बार अवश्य किसी विशेषज्ञ से सलाह लें।

निष्कर्ष :-

हमें उम्मीद है, कि आपको यह हमारा लेख बेहद पसंद आया होगा। यदि आपको हमारा यह लेख पसंद आया है, तो कृपया आप इसे अपने मित्र जन एवं परिजन के साथ अवश्य साझा करें।

FAQ

  • प्रश्न: क्या हम मक्के का सेवन नियमित रूप से कर सकते हैं ?

    उत्तर :- बिल्कुल आप एक संतुलित मात्रा में नियमित रूप से मक्के का सेवन कर सकते हैं, इसमें किसी भी प्रकार की परेशानी या फिर स्वास्थ्य संबंधित हानि नहीं है।

  • प्रश्न: क्या हम नियमित रूप से रात के समय में भी मक्के का सेवन कर सकते हैं ?

    उत्तर :- यदि आप मक्के को नियमित रूप से रात में अपने आहार में शामिल करना चाहते हैं, तो इसे आप बिल्कुल कर सकते हैं। कम से कम आप 25 किलोग्राम तक मक्के का सेवन प्रतिदिन रात में कर सकते हैं।

  • प्रश्न: क्या मक्के का सेवन वजन बढ़ाने में भी सहायक हो सकता है ?

    उत्तर :- जैसा कि हमने अपने इस लेख में बताया आपको ही यह आपके वजन को कम करने में काफी ज्यादा सहायक है। वहीं पर इसमें कहीं ना कहीं अच्छी मात्रा में कैलोरी भी मौजूद होती है, जो आपके वजन को बढ़ाने में भी सहायक हो सकती है।

  • प्रश्न: क्या महिलाएं गर्भावस्था में भी मक्के का सेवन कर सकती हैं ?

    उत्तर :- जी हां बिल्कुल गर्भवती महिलाएं मक्के का सेवन कर सकते हैं, क्योंकि इसमें अनेकों प्रकार के पोषक तत्व पाए जाते हैं, जो जच्चा बच्चा दोनों के लिए लाभकारी सिद्ध हो सकता है।

  • प्रश्न: क्या मक्के के सेवन से हमें किसी भी प्रकार की स्वास्थ्य संबंधी हानि भी हो सकती हैं ?

    उत्तर :- कुछ ऐसे मक्के के बने हुए व्यंजन होते हैं, जिसमें अनेकों प्रकार की चीजों का इस्तेमाल किया जाता है, जिसका यदि सेवन हम नियमित रूप से करें तो वह हमारे स्वास्थ्य को हानि भी पहुंचा सकता है।इसीलिए जब आप कभी भी मक्के के किसी भी प्रकार के व्यंजन का इस्तेमाल करें तो सबसे पहले आप यह सुनिश्चित करें कि यह आपके स्वास्थ्य के लिए किस प्रकार के सहायक सिद्ध हो सकता है।

- Advertisement -

Most Popular

Essay on Indian army In Hindi | भारतीय सेना पर निबंध हिंदी में

Essay on Indian Army in Hindi में आज हम आपको Indian Army के विषय में essay on Indian Army life in Hindi, History of...

Essay On Cancer in Hindi | कैंसर पर निबंध हिंदी में

आज के इस लेख में हम कैंसर पर निबंध (Essay on Cancer in Hindi) लेकर आए हैं। इस निबंध का उपयोग कक्षा 1,2,3,4,5,6,7,8,9,10 11...

Essay On Importance Of Hard Work in Hindi | परिश्रम का महत्व पर निबंध हिंदी में

Essay On Importance Of Hard Work in Hindi: परिश्रम का महत्व हमारे जीवन मे कितना अधिक है यह हम सब भलीभांति जानते हैं, खासकर...

Essay on Hindi Diwas in Hindi | हिंदी दिवस पर निबंध हिंदी में

Essay on Hindi Diwas in Hindi: हिंदी भाषा का प्रभाव दुनियाँ में तेजी से बढ़ रहा है। इसकी एक वजह हिंदी भाषा का जमकर...

Recent Comments