Paragraph on Hail of Corona Virus in Hindi | कोरोना वायरस का कहर पर पैराग्राफ इन हिंदी

Paragraph on Hail of Corona Virus in Hindi

Paragraph on Hail of Corona Virus in Hindi: कोरोना का कहर पूरे संसार में इस प्रकार फैल चुका है कि लोगों को यह अपने घरों पर ही बंद रहने पर मजबूर कर चुका है। विशेषकर अगर देखा जाए तो कोरोना वायरस के कारण जानमाल की काफी मात्रा में नुकसान हुई है। पूरे विश्व में एक तरफ से लॉकडाउन जारी कर दिया गया जहां पर सभी अपने घर में रहने पर मजबूर हो चुके थे। सारे ऑफिस, स्कूल, कॉलेज बंद पड़े हुए थे उसके साथ ही व्यापार में काफी अधिक घाटा देखने को मिला है।

कोरोना वायरस की उत्पत्ति और स्थान : (Origin and location of corona virus)

आज कोरोना का कहर पूरे विश्व पर छाया हुआ है जिसने पूर्ण रूप से सामाजिक, आर्थिक एवं राजनीतिक स्थिति पर अपना कहर डाल रखा है। कोरोना वायरस की शुरुआत दिसंबर 2019 को चीन के वुहान शहर से हुई। कोरोना महामारी एक ऐसी महामारी के रूप में फैलने लगा है, जिसमें लोगों को अचानक निमोनिया जैसी बीमारी होने लगी है। इसके साथ ही धीरे-धीरे इसका प्रकोप बढ़ता चला गया। शोधकर्ताओं के अनुसार पीड़ितों में से ज्यादातर लोग चीन के वुहान शहर के, सीफूड मार्केट से उत्पन्न हुआ है। वहां पर मुख्य रूप से मछलियाँ बेचा जाता है। इसके साथ ही यहां जीवित पशुओं के मांस का व्यापार भी होता है।

चीन के वुहान शहर से कोरोना नामक नए किस्म की बीमारी निकलने के बाद वैज्ञानिकों ने इस बात पर रिसर्च करना शुरू कर दिया, कि कोरोना वायरस है क्या? यह दिखता कैसा है और यह आखिर यह क्या चीज है ?? 

कोरोना वायरस महामारी के स्रोत : (Source of corona virus epidemic)

शोध के बाद वैज्ञानिकों ने कोरोना वायरस के नए जेनेटिक ढाँचे का पता लगाया। जिसकी जानकारी 30 जनवरी 2020 को लोगों के सामने प्रकाशित किया गया। उसके ठीक 3 दिन बाद इस बीमारी से संबंधित विस्तृत जानकारी पेश की गई और फिर, दुनिया में इस संक्रमण को नष्ट करने के लिए टिके बनाने की मुहिम शुरू कर दी गयी।

वैज्ञानिकों के अनुसार, कोरोना वायरस की नई नस्ल की पहचान की गई, जिसे उस समय Covid-19  का नाम दिया गया। शोध के बाद इस बात का पाता लगाया गया, की इस वायरस में तकरीबन 70% वैसा ही जीनोम अनुक्रमण पाए गए, जो सार्स कोरोना वायरस में भी पाए जाते हैं। 

We can take herbal tea for increase stemina to beat corona virus.

कोरोना वायरस से संक्रमित लोग :  (People infected with Corona virus) 

कोरोना वायरस से ग्रसित पहला मरीज 31 दिसंबर 2019 को चीन के वुहान शहर के मछली बाजार के पास मिला। जो पहले से ही अल्जाइमर पीड़ित था और मछली बाजार के पास ही रहता था। जिसे वुहान के जिनिनटान अस्पताल में भर्ती कराया गया था। 

जहां अस्पताल के वरिष्ठ डॉक्टर और शोधकर्ताओं में से एक ‘वू वेन्जुआन’ ने बताया, कि यह संक्रमण मछली बाजार के पास रहने वाले अल्जाइमर पीड़ित व्यक्ति को हुआ, जो की  बीमारी की वजह से वहां से बाहर कहीं नहीं गया था। शोधकर्ताओं ने यह भी बताया था, कि अस्पताल में भर्ती हुए 41 मरीजों के सैंपल से में लगभग 27 लोग ऐसे थे जो मछली बाजार के संपर्क में आए थे। डब्ल्यूएचओ (WHO)  के अनुसार, यह संक्रमण किसी जहरीले जानवर से इंसानों में फैला है, जिन कोई भी जानवर होने की संभावना है, जैसे चमगादड़, सांप, सीफूड आदि। धीरे-धीरे यह महामारी बढ़ती चली गई और लाखों लोगों को चपेट में ले लिया।

चाइना से अन्य देशों में कोरोना वायरस का प्रसार: (Corona virus spread in other countries from China)

कोरोनावायरस एक बहुत ही सूक्ष्म और प्रभावी संक्रमण है, जो बहुत ही तेजी से एक से दूसरे व्यक्ति में फैलता है। डॉक्टर और शोधकर्ताओं के मुताबिक यह संक्रमित बीमारी है, जो दूसरों के संपर्क में आने से फैलता है। शुरु-शुरु में निकली यह बीमारी चीन के वुहान शहर से बढ़कर तेजी से पूरे चीन में फैल गया और उसके बाद दूसरे देशों में भी यह बीमारी तेजी से फैलने लगा। 

इसका सबसे बड़ा कारण एक देश से दूसरे देश की यात्रा करना था। काफी कम समय में ही इस बीमारी ने अधिक लोगों को अपने चपेट में ले लिया। खासकर चीन की यात्रा पर गए लोग वापस आने पर संक्रमित पाए गए। जैसे इटली, फ्रांस, भारत, अमेरिका, जापान, कोरिया, इंग्लैंड सहित दुनिया भर के करीब 145 देश या उससे अधिक कोरोना वायरस के शिकार हुए। हालांकि सभी देशों ने कोरोना वायरस को कम करने के लिए बहुत से उपाय किए, जिनमें से सबसे बड़ा अंतरराष्ट्रीय यात्राओं पर रोक लगाकर किया गया है। 

कोरोनावायरस से निपटने के लिए सभी देशों में लगातार रिसर्च होने लगे, लेकिन अब तक इस वायरस का कोई एंटीडोट प्राप्त नहीं हो सका। यही कारण है कि यह सलाह दी जा रही है कि लिहाजा बचकर रहें सावधान रहें । 

कोरोना वायरस महामारी का प्रभाव : (Effect of Corona Virus Pandemic)

कोरोना वायरस का प्रभाव (Effects due to coronavirus in the India)आज केवल चाइना में ही नहीं बल्कि विश्व के अन्य बड़े एवं विकासशील अथवा विकसित देशों में भी देखने को मिल रहे हैं। इसके प्रभाव से व्यापार वाणिज्य से संबंधित हानि तो हो ही रही है, साथ ही साथ मृत्यु दर में भी काफी वृद्धि देखने को मिली है। इसके अलावा कोरोना के प्रभाव को निम्नलिखित बिंदुओं के माध्यम से देखा जा सकता है

1.सर्दियों में मृत्यु दर में वृद्धि : 

WHO ने भी सर्दियों में कोरोनावायरस से बचने की चेतावनी दे रखी है। WHO  के रीजनल डायरेक्ट हंस क्लग का कहना है कि सर्दियों के मौसम में कोरोनावायरस का कहर युवाओं के साथ-साथ विशेषकर बुजुर्गों की अधिक नजदीक होने वाली है। 

WHO  के डायरेक्टर ने यह भी कहा है कि वह किसी भी प्रकार की भविष्यवाणी नहीं करना चाहते हैं। परंतु निश्चित तौर पर कहा जा सकता है कि यह एक ऐसा समय होगा जिसमें मृत्यु दर में वृद्धि होना निश्चित है। अब तो यह खतरा और भी बढ़ गया है, कि जब मौसम में परिवर्तन होना शुरू होगा तो कोरोना वायरस के फैलने की तीव्रता और भी बढ़ जाएगी, जो कि संभवतः इस बीमारी को एक दूसरी ही लहर की ओर ले जाएगी जो पहले से भी ज्यादा खतरनाक होगी।

2.जान माल की हानि:

कोरोना वायरस जानलेवा बीमारी के प्रकोप में आने से कई लोगों की मौत हो चुकी है। वर्ल्डोमीटर द्वारा दी जाने वाली लाइव रिपोर्ट के अनुसार अब तक पूरी दुनिया में कोरोनावायरस से संक्रमित लोगों की संख्या करीब 33,840,332 है और यह संख्या लगातार बढ़ती जा रही है। जिससे 1,012,604 लोग अपनी जान भी गवा चुके हैं और इन संख्या में लगातार वृद्धि होती जा रही है। 

कोरोना के प्रभाव से यूरोपीय क्षेत्र के 55 में से 32 राज्यों तथा इसके अतिरिक्त 14 दिनों की घटना दर में 10 फीसद से अधिक की वृद्धि देखी जा रही है। इसके अलावा भी मौत से संबंधित आंकड़ों में वृद्धि हो गई है।

3.अर्थव्यवस्था में गिरावट :

कोविड-19 के प्रकोप से फैले आर्थिक संकट का शिकार केवल हमारा भारत देश ही नहीं, बल्कि पूरी दुनिया है। इसके प्रभाव से भारत के अलावा विश्व के अन्य देशों में अर्थव्यवस्था में जो गिरावट आई हैइसका अंदाजा लगाना भी अत्यंत कठिन है। इस बीमारी ने अपने प्रकोप से पूरी दुनिया की अर्थव्यवस्था की कमर तोड़ कर रख दी है।

इस बीमारी की वजह से कई लोगों ने अपनी नौकरियां तक गवा दिया है कई लोग बेघर हो चुके हैं एवं लोग भूखे रहने को मजबूर हो चुके हैं। लोग कई कई मिलो का फासला पैदल ही तय करके अपने गांव जाने को मजबूर है।

We can beat the corona virus by following the keto diet chart

कोरोना महामारी के दौरान भारत सरकार द्वारा उठाए गए कदम: (Steps taken by the Government of India during Corona Pandemic)

कोरोना वायरस के प्रभाव से देश एवं देशवासियों की रक्षा करने के उद्देश्य से भारत सरकार द्वारा कई महत्वपूर्ण कदम उठाए गए। इसके अलावा कई प्रकार की ऐसी योजनाएं भी बनाई गई जिससे वायरस के प्रभाव को कम किया जाना संभव हो।  इसे निम्नलिखित रुप से देखा जा सकता है

  1. दीप जलाना : भारतीय प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने 3 अप्रैल 2020 को भारत के जनता से अनुरोध किया था, कि कोरोनावायरस को हराने के लिए सामूहिक संकल्प और एकजुटता का प्रदर्शित करने के लिए रात 9 बजे 9 मिनट पर घर के सारे बिजली उपकरण बंद करके, आपने-अपने घरों की बालकनी या छतो पर दीया, मोमबत्तीटोर्च  जला कर कोरोना वारियर्स की जीत की अपील की।
  2. लॉकडाउन निर्देश : कोरोना महामारी से बचने के लिए पूरे देश में लोक डॉन की प्रक्रिया शुरू कर दी गई थी। जिसके लिए भारतीय जनता से अनुरोध किया गया कि अपने अपने घरों में रहे और सुरक्षित रहे ताकि दूसरों के संपर्क से बच सके और कोरोना वायरस से होने से भी बचे।  जिसके लिए देश की सभी यातायात साधन, शॉपिंग मॉल, सिनेमा घर आदि को बंद करवा दी 
  3. बर्तन बजाने की प्रक्रिया : कोरोनावायरस महामारी के इस विश्वयुद्ध से लड़ने के लिए और डॉक्टर्स, मेडिकल स्टोर और मीडिया कर्मियों को धन्यवाद देने के लिए नरेंद्र मोदी 22 मार्च शाम ठीक 5 बजे लोगों से अपने घरों की छतों और बालकनी पर ताली बजाने खाली बजाने के लिए अनुरोध किया था।
  4. मास्क के बिना आदान-प्रदान पर रोक: कोरोना वायरस के बढ़ते प्रभाव के कारण  सरकार ने बिना मास्क पहने किसी भी वस्तु के आयात और निर्यात पर रोक लगा दी थी सरकार का कहना था कि वैसे भीड़ भाड़ इलाकों में मास्क पहनना जरूरी है ताकि छीक और  खांसी के द्वारा कोरोनावायरस खेलने से बच सके।
  5. नगद राशि भुगतान पर रोक : कोरोनावायरस की बढ़ती खतरों को देखते हुए सरकार ने नगद राशि भेजने और बिलों के भुगतान करने के लिए भीड़भाड़ वाली जगहों पर जाने से रोक लगा दी है क्योंकि भुगतान के लिए 2 लोगों के संपर्क में आना जरूरी होता है। आरबीआई के अनुसार कोरोना काल के दौरान नगद राशि के भुगतान करने पर चिंता जाहिर की है। नगद राशि के आदान-प्रदान को लेकर सरकार द्वारा रोक लगाई जा रही है। इससे ऑनलाइन प्रक्रिया के माध्यम से राशि का भुगतान पर विशेष ध्यान दिया जा रहा है।

सामान्यता कोरोनावायरस चार प्रकार के हैं, जो कि सर्दियों में ज्यादा आसानी से फैलता है। इनफ्लुएंजा, राइनो वायरस तथा आम सर्दी जो कि हर सर्दियों में होता है और श्वसन सिंक्रोटीलियस वायरस। एकेडमी ऑफ मेडिकल साइंस द्वारा जारी की गई एक रिपोर्ट के मुताबिक, यह अनुमान लगाया जा सकता है कि आने वाली सर्दी के मौसम में ब्रिटेन में सबसे अधिक मौतें होंगी, इसका आंकड़ा 251000 तक भी हो सकता है।