Home अनुच्छेद How to make Gujiya on Holi Festival in Hindi | Recipe on...

How to make Gujiya on Holi Festival in Hindi | Recipe on Gujiya without Khoya on Holi in Hindi

- Advertisement -
- Advertisement -
- Advertisement -

How to make Gujiya on Holi Festival in Hindi: होली का त्यौहार हिंदू मान्यता के अनुसार एक विशेष पर्व के रूप में मनाया जाता है। होली के त्यौहार में लोगों का एक दूसरों का घर आना जाना लगा रहता है। इस त्यौहार में लोग एक दूसरे को रंग लगाकर अपने घरों में उनका स्वागत करते है। होली एक ऐसा त्यौहार है जिसमें मिठाइयों का भी एक तरफ से विशेष महत्व है और ऐसे पर्व त्योहार के मौके पर लोग बाजारों में काफी सारे मिठाइयों के लिए आर्डर भी करते हैं  

देखा जाए तो होली के विशेष त्यौहार पर बाजार में तो कई बेहतरीन किस्म की मिठाइयां मिल जाती है किंतु गुजिया जैसी मिठाई बाजार में कहां मिलती है? घर में बने गुजिया का एक अलग ही स्वाद है, जिसे यदि अच्छे तरीके को फॉलो करके घर पर ही बनाया जाए तो इसे और अधिक स्वादिष्ट बनाया जा सकता है। होली के त्यौहार पर बनाने वाले गुजिया की रेसिपी को आज हम आपके सामने शेयर करने जा रहे हैं, जिससे घर पर ही आप स्पेशल तरीके के गुजिया बना सकते हैं। 

गुजिया कई प्रकार की होती है जिसमें मावा गुजिया, रवा गुजिया, चॉकलेट गुजिया, केसर गुजिया, अंजीर और खजूर की गुजिया काफी प्रसिद्ध है यहां हम मावा गुजिया बनाने की रेसिपी लेकर आए हैं जिसके लिए मुख्य रूप से जिन सामग्रियों का प्रयोग होता है वह निम्नलिखित है

गुजिया बनाने के लिए विशेष सामग्री :

  1. मैदा 250 ग्राम, एक कप
  2. घी 60 ग्राम, 1/ 4 कप
  3. 1/3 कप कद्दूकस किया हुआ सूखा नारियल
  4. इलायची 6 से 7 पीस
  5. दरदरी कूटी गई काली मिर्च 10 से 11 
  6. मावा 125 ग्राम 1/2 कप
  7. बारीक कटे हुए काजू 10 से 12 पीस
  8. बारीक कटे हुए बादाम 10 से 12 पीस
  9. 1/2 जायफल
  10. 1 टेबलस्पून किसमिस
  11. 150 ग्राम अर्थात 3/4 कप बूरा
  12. 125 ग्राम अर्थात 1/2 कप मावा

घर पर गुजिया बनाने की बेहतरीन विधि :

गुजिया बनाने के लिए मैदा को डोह का रूप देने के बाद मैदा के बीच में थोड़ी सी जगह बना ले। इसके बाद 1/4 कप घी मिला दें। फिर मैदा में गुनगुना पानी डालकर मैदा को अच्छे से गुंथ लीजिए। इसके लिए आपको ध्यान रखना होगा कि पूरी के आटे से थोड़ा ही सख्त गूंथने की आवश्यकता है। 250 ग्राम मैदा लगाने के लिए इसमें 1/2 कप से भी कम पानी का प्रयोग होता है। मैदे को गूंथने के बाद 20 से 25 मिनट तक मैदा को ढक कर रख दीजिए ताकि वह अधिक मुलायम रूप दे सकें। 

स्टाफिंग बनाने के लिए विशेष सामग्री एवं विधि :

स्टाफिंग बनाने के लिए सबसे पहले गैस पर पेन को गर्म होने दें। पेन गरम होने के बाद उसमें दो टेबल स्पून घी डाल दीजिए। घी के प्रयोग से इसके स्वाद में और अधिक वृद्धि हो जाती है जो गुजिया को काफी स्वादिष्ट रूप भी देती है। जब घी अच्छी तरह से पिघल जाए तब उसमें सूची डालकर लगातार चलाते रहिए। सूजी भूनने के बाद जब वह हल्के भूरे रंग में जाए तब गैस को ऑफ कर दीजिए। इसके बाद भी लगातार सूजी को चलाते रहिए क्योंकि कढ़ाई अभी गर्म है और यदि इसे गर्म कढ़ाई में ऐसे ही छोड़ दिया जाए तो इसके जलने की संभावना बढ़ जाती है। एक प्याले में बूरा लेकर भुनी हुई सूजी और चीनी में इसे डाल दीजिए। 

यदि आप गुजिया (How to make Gujiya on Holi Festival in Hindi) को शाही तरीके से पेश करना चाहते हैं और अपने मेहमानों को एक स्वाद भरे गुजिया का आनंद दिलाना चाहते हैं तो सबसे जरूरी यह है कि उसमें ड्राई फ्रूट्स की मात्रा अधिक दें। इसके लिए सबसे पहले आप पेन में काजू और बादाम जैसे कई ड्राई फ्रूट्स डालकर इनको लगातार 1 या 2 मिनट तक भून लें। इनको भूनने के बाद पेन से निकालकर थाली में रख दें और सूजी और बूरा में डाल दें। कद्दूकस किया हुआ सुखा नारियल पेन में डालकर इसे लगभग आधा मिनट तक घूमा लेने के बाद फिर उसे प्याले में डाल दें।

फिर मावा को टुकड़ेटुकड़े कर पेन में डाल दें। लगातार इसे चलाने के बाद इसमें हल्का सा कलर बदलने का इंतजार करें और अच्छी खुशबू आने तक कम आंच पर भून लें। भुने हुए मेवे और किशमिश को इस प्याले में डाल दें। इसमें और अधिक स्वाद डालने के लिए आप इलायची के दाने का प्रयोग भी कर सकते हैं। 

इलायची का दाना निकाल लें और उसे पीसकर इसमें डाल दें। फिर काली मिर्च को कूट लें और इसे दरारा बना लें। इसके बाद इसके स्वाद में वृद्धि के लिए जायफल को कद्दूकस करके इसमें डाल सकते हैं। सारी चीजों को अच्छी तरह से मिलाकर स्टफिंग तैयार कर लीजिए। इस प्रक्रिया के बाद आप देखेंगे कि आपकी स्टाफिंग तैयार है। 

जब मैदा अच्छी तरह से सेट हो जाए तब आप इसे अपने हाथों से थोड़ा मसल लें। गूंथे हुए मैदे को दो भागों में बांट लें और इसकी लंबाई अपने हाथों से बढ़ा दे। दो भागों में बांटने के बाद आप इसके लोइयों को तोड़ कर तैयार कर ले। यह सूखे ना इसलिए आपको इसे ढक कर रखने की जरूरत है। इसके बाद एक लोइये को उठाकर इसे अपने हथेलियों से मसलते हुए गोले का रूप दे सकते हैं इसके बाद इसे पेड़े की तरह का आकार दे दे।  फिर इसे इस प्रकार आकार दें कि इसका व्यास 3 से 4 इंच के बराबर हो। इसका आकार देते वक्त यह ध्यान रखना होगा कि यह कहीं मोटी और कहीं पतली नहीं होनी चाहिए।

इसके बाद गुजिया (How to make Gujiya on Holi Festival in Hindi) बनाने के लिए एक सांचा लीजिए और इसके ऊपर बेले हुए पूरी के आकार के मैदे को रख दें। इसके बाद 2 छोटे चम्मच तैयार किए गए स्टाफिंग को इसके बीच में रखें और चारों तरफ से हल्के हल्के पानी लगाकर इसे सांचे के मदद से दबा दें। जब आप पुनः सांचे को खोलेंगे तब देखेंगे कि इसने सांचे के आकार को ले लिया है। सांचे को बंद करने के बाद बचे हुए किनारे के मैदे को हटा ले ताकि गुजिया को दिए गए डिजाइन खराब ना हो। इसी तरह से अन्य अभी लोइयों को पहले की तरह ही सांचे में डालकर तैयार कर ले। इतने मैदे का प्रयोग कर आप 24 से 25 गुजिया आसानी से बना सकते हैं। इसके अलावा सांचे में डालने पर जिन मैदे को कटिंग करके निकाला गया था उससे भी आपने गुजिया बना सकते हैं।

गुजिया के तैयार हो जाने के बाद आप इसे कढ़ाई में गर्म करने के लिए सबसे पहले घी का प्रयोग करें। कढ़ाई में घी डालकर इसे गर्म कर ले। गुजिया तलने के लिए आपको मध्यम गर्म घी की जरूरत होती है जिससे गुजिया स्वादिष्ट और बेहतर बनती है। आंच को धीमी करके कढ़ाई में गुजिया को तलने के लिए डाल दें, पर ध्यान रहे कि कढ़ाई में जितने गुजियों की जगह हो गुजियों की संख्या उसी के अनुसार होनी चाहिए। 

जब गुजिया (How to make Gujiya on Holi Festival in Hindi) नीचे एक तरफ थोड़ी सी सीक जाए उसके बाद इसे पलट दे। जब तक यह गोल्डन ब्राउन ना हो जाए तब तक इसे लगातार पलटते रहे। इसके बाद जो गुजिया तल चुके हैं उन्हें कलछी से उठाएं और कड़ाही के किनारे पर इसे कुछ समय के लिए रोक दें ताकि गुजिया में जो अतिरिक्त घी की मात्रा है, वह कढ़ाई में गिर जाए। इसके बाद आप इसे एक अलग से प्लेट अथवा कटोरी में निकाल कर रख सकते हैं। बता दें कि एक बार की गुजिया तलने में केवल 8 से 10 मिनट का समय लगता है और आप अधिक से अधिक गुजिया कम समय में ही बना सकते हैं।

होली स्पेशल के लिए बनाए गए गुजिया को आप त्यौहार के दिन तो खा ही सकते हैं, इसके अलावा सबसे अच्छी बात तो यह है कि गुजिया को कंटेनर में रखकर कुछ दिनों तक सुरक्षित रखा जा सकता है। आप इस गुजिया का 15 दिनों तक आसानी से सेवन कर सकते हैं।

गुजिया बनाने के लिए कुछ प्रमुख सुझाव निम्नलिखित रुप से दिए जा रहे हैं जिससे घर पर स्वादिष्ट गुजिया तैयार करना आसान हो जाता है

  1. जब आप स्टाफिंग तैयार करें उस समय सभी चीजों को अच्छे से भूनें, ताकि स्टाफिंग बनाते समय कोई समस्या ना हो।
  2. जब आप गुजिया बनाते समय कसार भरे, तब आप इस बात का बेहद ध्यान रखें कि 2 छोटे चम्मच से ज्यादा कसार ना भरे वरना गुजिया के खुलने का डर लगा रहता है। ज्यादा भरने से गुजिया किनारे तक पहुंच जाती है और यह आसानी से चिपकती नहीं है।
  3. गुजिया बनाते समय उसमें चम्मच या नाखून ना लगाएं अन्यथा गुजिया फट सकती है।
  4. जिस वक्त आप गुजिया को चला रहे हो उस वक्त यदि गुजिया फट जाए तो आप सबसे पहले उस गुजिया को बाहर कर दें और इसे सबसे अंत में तले, जिससे घी खराब होने से बच सकता है।
  5. मैदा में मोयन का प्रयोग करने के बाद इसे अपने हाथों से अच्छी तरह बांधकर रखें ताकि यह अच्छे तरीके से बाइंड हो सके।
  6. यदि आपके पास बूरा उपलब्ध ना हो तो आप इसकी जगह चीनी का भी प्रयोग कर सकते हैं।
  7. यदि आप गुजिया बनाते वक्त गुजिया से बचे हुए कटिंग का प्रयोग करते हैं तब ध्यान रहे कि इसे पुनः अपने हाथों से मसलकर हल्का नरम कर ले और इसके बाद गुजिया बनाएं।
  8. बचे हुए स्टाफिंग को आप ऐसे भी खा सकते हैं और यदि आप चाहे तो उसे 10 15 दिनों तक आसानी से फ्रिज में भी रख सकते हैं। अब अपनी इच्छा के अनुसार इस स्टाफिंग का प्रयोग करके कभी भी घर पर ही गुजिया बना सकते हैं।

होली के दौरान गुजिया (How to make Gujiya on Holi Festival in Hindi) बनाने की इस रेसिपी का फॉलो करके आप घर पर ही बेहतरीन गुजिया बना सकते हैं। आशा है कि आपको यह रेसिपी काफी पसंद आयेगी। इसमें बताये गये सभी बातों को मान कर आप होली के त्यौहार में स्वादिष्ट गुजिया बना सकते हैं।

- Advertisement -

Most Popular

Essay on Indian army In Hindi | भारतीय सेना पर निबंध हिंदी में

Essay on Indian Army in Hindi में आज हम आपको Indian Army के विषय में essay on Indian Army life in Hindi, History of...

Essay On Cancer in Hindi | कैंसर पर निबंध हिंदी में

आज के इस लेख में हम कैंसर पर निबंध (Essay on Cancer in Hindi) लेकर आए हैं। इस निबंध का उपयोग कक्षा 1,2,3,4,5,6,7,8,9,10 11...

Essay On Importance Of Hard Work in Hindi | परिश्रम का महत्व पर निबंध हिंदी में

Essay On Importance Of Hard Work in Hindi: परिश्रम का महत्व हमारे जीवन मे कितना अधिक है यह हम सब भलीभांति जानते हैं, खासकर...

Essay on Hindi Diwas in Hindi | हिंदी दिवस पर निबंध हिंदी में

Essay on Hindi Diwas in Hindi: हिंदी भाषा का प्रभाव दुनियाँ में तेजी से बढ़ रहा है। इसकी एक वजह हिंदी भाषा का जमकर...

Recent Comments