Home निबंध Essay on Yoga in Hindi | Importance and Benefits of Yoga |...

Essay on Yoga in Hindi | Importance and Benefits of Yoga | योग पर निबंध हिंदी में

- Advertisement -
- Advertisement -
- Advertisement -

हम सब जानते हैं कि योग का महत्व हमारे जीवन मे बहुत ज्यादा है। यदि हम रोजाना योग करेंगे तो शरीर को स्वस्थ रख सकते हैं। Essay on yoga in hindi में आज हम जानेंगे कि Yog से जुड़ी तमाम बातें।

इस निबंध का उपयोग 3,4,5,6,7,8,9,10,11,12 कक्षा के विद्यार्थी परीक्षा में भी कर सकते हैं। योग पर निबंध को बहुत ही आसान भाषा मे लिखा गया है।

प्रस्तावना

तन मन और आत्मा के बीच संतुलन बैठाने का काम योग करता है। यदि कोई व्यक्ति नियमित रूप से योग करता है तो उसके जीवन में इसका बहुत सकारात्मक प्रभाव पड़ता है।

योग करने से ना सिर्फ हमारा शरीर लचीला बनता है साथ ही हमारा मन और मस्तिष्क स्वस्थ होता है। योग के ऐसे ही कुछ अच्छे प्रभावों की वजह से भारतीय संस्कृति हमेशा ही योग को अपने जीवनचर्या का एक हिस्सा मानती आई है। हमारे देश में प्राचीन काल से ही लोग योग की उपयोगिता के बारे में जागरूक थे।

Importance of Yoga in Hindi (योग का महत्व हिंदी में)

हमारी बदलती हुई जीवनशैली के बीच योग का महत्व और भी ज्यादा बढ़ गया है। अनियमित खानपान, प्रदूषण भरे माहौल में रहने से एवं सोने-जागने का एक निश्चित वक्त न होना, इन सब कारणों की वजह से कहीं ना कहीं हमारा स्वास्थ्य बहुत बुरी तरह प्रभावित हो रहा है।

जिसका असर हमारी कार्यक्षमता में स्पष्ट तौर पर दिखाई देता है। जब हमारा शरीर और मन स्वस्थ नहीं होता तो हम पूरी ऊर्जा के साथ काम नहीं कर पाते। ऐसे में योग सबसे बड़ी औषधि का काम करता है।

योग ना सिर्फ हमारे शरीर को स्वस्थ बनाता है बल्कि मन और मस्तिष्क दोनों को मजबूती प्रदान करता है। योग के कारण हमारे जीवन में सकारात्मकता बनी रहती है।

जिसकी सहायता से हम हर बुराई से लड़ने के काबिल बनते हैं। योग करने से हमारा मन शांत होता है जिसका सीधा सा अर्थ है कि हम Blood Pressure जैसी चुनौतियों से अच्छी तरीके से निपट सकते हैं क्योंकि विचलित मन की वजह से ही ऐसी समस्याओं का जन्म होता है।

निष्कर्ष

आज का परिवेश बहुत ज्यादा तनाव भरा हो गया है, ऐसे में योग आपके जीवन से तनाव कम करने का सबसे बेहतर विकल्प हो सकता है। हम सबको अपने जीवन मे योग अपनाना चाहिये और जीवन को सुखमय बनाने की कोशिश करना चाहिए।

Essay on yoga in hindi (योग पर निबंध हिंदी में) – (500 शब्द)

प्रस्तावना

पहले भारत सिर्फ में ही योग के महत्व को लोग जानते थे लेकिन भारत के प्रयासों के कारण आज पूरी दुनियाँ योग को ना सिर्फ स्वीकार कर चुकी है बल्कि अपने जीवन का अहम हिस्सा बनाने की कोशिश कर रही है।

21 जून 2015 को विश्व का पहला अंतरराष्ट्रीय योग दिवस मनाया गया। यह योग के प्रति लोगों की बढ़ती ललक को दर्शाता है।

हमें कई ऐसी कहानियां सुनने को मिल जाती हैं जो यह बताती हैं कि योग के माध्यम से कई लोगों ने बहुत बड़ी-बड़ी असाध्य बीमारियों से भी छुटकारा पाया है।

योग करने के नियम (Yoga Rules in Hindi)

योग करने से कुछ नियमों को जानना जरूरी है। ऐसे ही कुछ नियम निम्नलिखित है:-

  • योग करते समय हमेशा आरामदायक सूती कपड़े पहनना चाहिए।
  • योग करने से पहले स्नान किया जा सकता है लेकिन योग करने के तुरंत बाद स्नान कभी भी ना करें।
  • हमेशा खाली पेट ही योग करना चाहिए इसलिए योग करने से करीब 2 घंटे पहले से कुछ भी खाना ना खाएं।
  • हमेशा अपने शरीर की क्षमता के अनुसार ही योग करना चाहिए।
  • योगासन करने के बाद ही हमेशा प्राणायाम करना चाहिए।
  • योगासन करने का सबसे उत्तम समय सूर्योदय व सूर्यास्त होता है।
  • योग अभ्यास नियमित रूप से करें तो यह बेहतर है।
  • यदि आपको कमर दर्द की दिक्कत है तो पीछे मुड़ने वाले योगासन नहीं करना चाहिए।
  • यदि आप किसी बीमारी से ग्रसित हैं या शरीर में किसी भी तरह की दिक्कत है तो पहले डॉक्टर की परामर्श लेना चाहिए उसके बाद ही योग करना चाहिए।
  • योग और व्यायाम करने के तुरंत बाद पानी नहीं पीना चाहिए।

अच्छे योगाभ्यास के लिए जरूरी सावधानियां (Important precautions for good yoga practice)

योगासन लाभकारी है पर कुछ विशेष परिस्थितियों में नुकसान भी कर सकता है। इसलिए योग से जुड़ी ये जरूरी सावधानियां जरूरी करनी चाहिए।

  • गर्भावस्था के दौरान योग करते समय सावधानी रखनी चाहिए क्योंकि कुछ ऐसे योग हैं जो इस अवस्था में आपको नुकसान भी पहुंचा सकते हैं। इसलिए हमेशा किसी योग गुरु के देखरेख में योग करना चाहिए।
  • बचपन से ही बच्चों में योग करने की आदत जरूर डालना चाहिए लेकिन यदि बच्चे की उम्र 10 वर्ष से कम है तो उसे बहुत मुश्किल योगाभ्यास ना कराएं।
  • योगाभ्यास के साथ-साथ अपने जीवन में खान-पान के प्रति संयम बरतें धूम्रपान और मादक पदार्थों के सेवन से परहेज करें क्योंकि यह सेहत को नुकसान पहुंचाते हैं।
  • योगाभ्यास के साथ-साथ शरीर के पोषण का भी भरपूर ध्यान रखें हमेशा ऐसा खाना खाएं जिस में पोषक तत्व भरपूर मात्रा में मौजूद हो। अन्यथा शरीर में कमजोरी भी आ सकती है।
  • योगाभ्यास अच्छे जीवन के लिए जरूरी है। लेकिन इसके साथ में नींद भी उतनी ही ज्यादा जरूरी है, क्योंकि नींद भी एक तरह का योग है इसलिए नींद को महत्व देना चाहिए।

योग शुरू करने के लिए जरूरी सुझाव (Important tips to start yoga)

यदि किसी व्यक्ति ने अपने जीवन में कभी योग नहीं किया और वह अब योग शुरू करना चाहता है तो कुछ बातों का जरूर ध्यान रखना चाहिए जैसे कि:-

  • योगाभ्यास करते वक्त अपने शरीर पर अनावश्यक दबाव ना डालें। सहजता के साथ जितना योग आपका शरीर कर सकता है सिर्फ उतना ही करें क्योंकि शुरुआती दिनों में आपके शरीर में लचीलेपन की कमी होगी लेकिन जैसे-जैसे योग करते जाएंगे वैसे ही आपका शरीर अधिक लचीला होता जाएगा।
  • शुरुआत में सिर्फ वही आसान करने की कोशिश करें जिनमें आप सहज महसूस करते हैं। योगासन में सांस लेने और छोड़ने
    का बहुत ज्यादा महत्व होता है इसलिए शुरू से ही इस पर ध्यान जरूर दें।
  • कभी भी जल्दी-जल्दी योगासन नहीं करें हमेशा आराम से योगासन करें और दो योगासनों के बीच कुछ मिनट का अंतराल जरूर रखें।
  • योगासन की समाप्ति हमेशा शवासन के साथ ही करें।

International Yoga Day (विश्व योग दिवस)

पूरे विश्व मे योग का प्रसार हो सकें और लोग योग को अपने जीवन मे उतार सकें इसके लिए प्रतिवर्ष 21 जून के दिन विश्व योग दिवस मनाया जाता है।

विश्व योग दिवस मनाने की शुरुआत 21 जून 2015 से हुई थी। यह पहला विश्व योग दिवस था। 21 जून का दिन भारत और एशियाई देशों में साल का सबसे का सबसे बड़ा दिन होता है।

21 जून को विश्व योग दिवस मनाया जाना चाहिए, इसका प्रस्ताव हमारे प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने संयुक्त राष्ट्र संध के समक्ष रखा था, जिससे सभी देशों ने सहमति जताई और इस तरह विश्व योग दिवस की शुरुआत हुई।

उपसंहार

भारत योग का जनक है और एक बार फिर भारत से ही दुनियाँ में योग का प्रसार हो रहा है लेकिन योग को अपनाने में हम भारतीय आज भी पीछे हैं। हमें भी योग को जीवन का हिस्सा बनाना चाहिये।

Essay on yoga in hindi (योग पर निबंध हिंदी में) – (1500 शब्द)

प्रस्तावना

योग एक ऐसा शब्द है जिसके आने को अर्थ है। योगेश्वर श्रीकृष्ण ने भगवत गीता में योग का, जिक्र तीन बार किया है और हर बार योग का एक अलग अर्थ निकलता है।

महर्षि पतंजलि को योग का जनक कहा जाता है । उन्होंने योग को कुछ अलग ही तरह से परिभाषित किया है, लेकिन जब इन सब बातों की गहराई पर जाते हैं तो हमें पता चलता है कि योग का सिर्फ एक ही मकसद है और वह है खुद को जानना और आजाद करना।

योग हमें आजाद होने का मार्ग दिखाता है। श्रीमद भगवत गीता में भगवान श्रीकृष्ण ने भी योग के इसी रूप का जिक्र किया है जिसमें वह अर्जुन को कहते हैं कि उन्हें खुद को स्वतंत्र करने के लिए पहले स्वयं को जानना चाहिए।

What is yoga (योग की परिभाषा)

‘योग’ जिसका हिंदी में शाब्दिक अर्थ है जोड़ना। योग का महत्व हमारे जीवन में बहुत अधिक है इसी बात को समझाने के लिए कई महान विभूतियों ने योग को अपने अपने शब्दों में वर्णित किया है।

हम आज योग का जो स्वरूप देखते है वह कुल योग का एक छोटा सा हिस्सा है। लेकिन फिर भी यह महत्वपूर्ण है। आज हमारी सोच सिर्फ शरीर तक ही सीमित रह गई है इसलिए हम योग के ऐसे स्वरूप को जल्दी समझ पाते हैं, जो शरीर से संबंधित फायदे पहुचाने वाला होता है।

लेकिन यदि सम्पूर्ण योग को एक साथ देखा जाए तो यह बहुत व्यापक है। योग सिर्फ शरीर तक सीमित सीमित नहीं है बल्कि योग तो हमें बताता है कि किस तरह से हम इस जीवन मरण के चक्र से बाहर निकल सकते हैं और मुक्त हो सकते हैं।

भगवान श्री कृष्ण ने भगवत गीता में योग के अनेक रूपों का वर्णन किया है। यदि कोई भी व्यक्ति उनमें से किसी भी रूप को अपने जीवन में उतार लेता है तो वह इस जन्म-मरण के चक्र से मुक्त हो सकता है।

जिन ग्रंथों में योग के बारे में विस्तृत वर्णन मिलता है उनमें लिखा है कि योग के माध्यम से हम अपनी चेतना को ब्रह्मांड ही चेतना के साथ जोड़ सकते हैं।

जब हमारी चेतना ब्रह्मांड ही चेतना से जुड़ जाती है तो हम, ब्रह्मांड और इस पूरी सृष्टि के साथ एकरूपता महसूस करते हैं एकरूपता महसूस करने की यही प्रवृत्ति ही योग है।

History Of Yoga in Hindi (योग का इतिहास)

हमारे देश में योग का अस्तित्व तब से है जब धर्मों का निर्माण भी नहीं हुआ था। जब कोई सभ्यता नहीं थी उसके पहले भी योग था। योग के पहले ज्ञाता भगवान शिव थे। भगवान शिव से ही यह ज्ञान सप्त ऋषि को मिला। भगवान शिव को इसी वजह से आदियोगी भी कहा जाता है।

फिर इन सप्तऋषियों ने योग का प्रचार प्रसार पूरी दुनिया में किया। लेकिन योग की सबसे ज्यादा अभिव्यक्ति भारत में हुई क्योंकि भारत में ही योग का जन्म हुआ था।

महाभारत, रामायण जैसे कई महाकाव्यों में भी योग के बारे में वर्णन मिलता है। यदि बात करें वर्तमान सभ्यताओं की दो सिंधु घाटी सभ्यता में कई ऐसे अवशेष मिले हैं जो यह बताते हैं कि वहां के लोग योग करते थे।

हिंदू, बौद्ध और जैन परंपराओं में तो योग इनके जीवन का हिस्सा है,लेकिन योग के सभी सूत्रों को लिखकर एक जगह समाहित करने का श्रेय महर्षि पतंजलि को जाता है। इसी वजह से इन्हें योग का जनक भी कहा जाता है।

महर्षि पतंजलि ने अपने ग्रंथ में योग के अनेक रूपों का वर्णन किया है। इन्हीं के लिखित ग्रंथों को पढ़कर और उनसे योग की शिक्षा लेकर अनेक ऋषि और योगाचार्य ने योग का प्रचार प्रसार फिर आगे किया।

Types of yoga in Hindi  (योग के प्रकार)

योग का विस्तृत वर्णन मुख्य रूप से 2 ग्रंथो में किया गया है। महर्षि पतंजलि द्वारा रचित ग्रंथ में योग का बहुत विस्तार से वर्णन किया गया है। इसके अलावा श्रीमद्भागवत गीता में भी श्री कृष्ण ने योग के कई रूप बताए हैं।

महर्षि पतंजलि द्वारा योग के निम्नलिखित रुप है:-

यम

अहिंसा, सत्य, अस्तेय, ब्रह्मचर्य और अपरिग्रह यह पांचों नियम यम के अंतर्गत आते हैं। ऋषि पतंजलि के अनुसार योग की शुरुआत यम से होती है। यम हमें बताता है कि हमें दुनिया को किस नजर से देखना चाहिए और दुनिया के साथ किस तरह से व्यवहार करना चाहिए।

नियम

संतोष,स्वाध्याय,तप,ईश्वर प्रणिधान और शौच यह पांच नियम कहलाते हैं। ये पांच नियम हमारे लिए बनाए गए हैं

आसन

एक स्थिति में लंबे वक्त तक बैठे रहने की प्रक्रिया ही आसन कहलाती है योग में आसन का बहुत अधिक महत्व है कई अलग-अलग तरह के आसनों का वर्णन योग में मिलता है।

प्राणायाम

प्राणायाम का मतलब होता है अपनी सांसो को लयबद्ध करना ऋषि पतंजलि ने अपने ग्रंथ में बताया है कि हमें हमारे सांस लेने, रोकने और छोड़ने की प्रक्रिया के बीच एक तारतम्य होनी चाहिए।

प्रत्याहार

अपने मन को संकुचित करना एवं बाहरी चीजों से दूर करना ही प्रत्याहार कहलाता है। सुनना, सूंघना, देखना और महसूस करना इन्हीं 4 तरीकों से कोई भी जानकारी हमारे मन मे जाती है। लेकिन प्रत्याहार का अभ्यास करने से इन बाहरी प्रभावों का हमारे मन पर असर नहीं पड़ेगा और हमारा मन स्थिर रहेगा।

धारणा

अपनी परेशानियों से हमेशा के लिए मुक्ति पाने और खुद को स्वतंत्र करने का पहला चरण धारणा कहलाता है। धारणा का अभ्यास करते समय हमें अपने मन को किसी एक बिंदु पर केंद्रित करना पड़ता है। यदि हमारा मन भटकता भी है तो भी हमें खींच कर वापस लाना है और उस बिंदु पर ध्यान देना होता है।

ध्यान

हम जिस वस्तु पर अपना चित्त टिकाने की कोशिश करें और उसी वस्तु पर हमारा चित्त टिक जाए। चित्त के स्थिर रहने की यही प्रक्रिया ही ध्यान कहलाती है।

चित्त को स्थिर करने के लिए कई तरह के प्राणायाम और ध्यान की प्रक्रिया बताई गई हैं। लेकिन चित्त की स्थिरता इस बात पर निर्भर करती है कि हमने ऊपर के चरणों मे दक्षता हासिल की है या नहीं।

समाधि

ध्यान के बाद जो आखिरी चरण होता है वह समाधि कहलाता है। समाधि के वक्त योगी की चेतना उस चीज से एकसार हो जाती है जिसके ऊपर उसने अपना ध्यान केंद्रित किया है।

महर्षि पतंजलि ने योग के 8 रूपों का वर्णन किया है लेकिन इनके अलावा भी भगवान श्री कृष्ण ने श्रीमद् भागवत गीता में योग के तीन अलग रूपों का वर्णन किया है।

श्रीमद्भागवत गीता के अनुसार योग के प्रकार निम्नलिखित है:-

कर्म योग

श्रीमद्भागवत गीता में भगवान श्री कृष्ण अर्जुन को बार-बार इस बात के लिए प्रेरित करते हैं कि उन्हें कर्मयोगी बनना चाहिए।

यहां पर कर्मयोग से तात्पर्य है किसी कर्म के प्रति आसक्ति की भावना रखना। हम जब कोई काम करते हैं तो उसके परिणाम का विचार पहले ही अपने मन में कर लेते हैं और उसके परिणाम से अपने दुख-सुख को जोड़ लेते हैं।

लेकिन भगवान श्री कृष्ण कहते हैं कि एक कर्मयोगी कभी भी परिणाम की चिंता नहीं करता वह बस कर्म करता है और फल भगवान के ऊपर छोड़ देता है।

क्योंकि फल हमारे हाथ में नहीं होता हमारे हाथ में सिर्फ कर्म करना ही है। एक सच्चा कर्मयोगी सुख और दुख दोनों ही स्थिति में समान भाव रखता है। एक कर्मयोगी यश-अपयश से प्रभावित नहीं होता है उसके लिए दोनों ही स्थिति एक जैसी होती हैं।

भक्ति योग

भगवान श्री कृष्ण ने योग के जरिए मुक्ति पाने का जो दूसरा मार्ग बताया है वह भक्ति योग है। भक्ति योग का मतलब होता है किसी की भक्ति में इस तरह डूब जाना कि हमारी भावनाएं सुख-दुख, यश-अपयश किसी भी भावना से प्रभावित ना हो।

ना तो हमें स्वर्ग की लालसा होना न हमें नर्क जाने का डर हो ना तो हमें पैसों का मोह हो न हमें भोग विलास की वस्तुओं की लालसा।

यदि कोई व्यक्ति इस तरह किसी की भक्ति करता है तो उसकी चेतना बहुत ही परिष्कृत हो जाती है और वह व्यक्ति मोक्ष के द्वार पर पहुंच जाता है।

ज्ञान योग.

ज्ञान के माध्यम से ईश्वर के अस्तित्व स्वरूप को समझना तथा वास्तविक सत्य जानने के लिए ज्ञान की सहायता लेना ही ज्ञान योग कहलाता है। एक ज्ञानयोगी ईश्वर तक पहुंचने के लिए ज्ञान को अपना साधन बनाता है।

ज्ञान योगी अपना ज्ञान बढ़ाने के लिए कई पुस्तकों का अध्ययन करता है ग्रंथों को पढ़ता है,इन्हीं सब माध्यमों के जरिए वह जानने की कोशिश करता है कि आखिर ईश्वर कौन है, इस दुनिया का सत्य क्या है, और वह कौन है और उसकी मुक्ति कैसे हो सकती है

योग के लाभ (Benefits of Yoga)

योग के कुछ प्रमुख लाभ निम्नलिखित है:-

  • भावनाओं में नियंत्रण

महर्षि पतंजलि द्वारा योग के जिन 8 चरणों का वर्णन किया है यदि उनमे से शुरुआती दो नियमों का पालन भी किया जाए तो हम अपनी भावनाओं में नियंत्रण ला सकते हैं। भावनाओं में नियंत्रण आने से मन मे व्यर्थ के विचार नही आयेंगे और हम अपने काम के लिए ज्यादा सजग और केंद्रित रहेंगे। क्योंकि भावनाएं कही न कही हमको अपने लक्ष्य से भटका देती है।

  • मजबूत दिमाग

प्राणायाम करने से हमारे दिमाग को पर्याप्त ऑक्सीजन मिलती है, जिससे कि दिमाग ज्यादा बेहतर काम करता है। हम सांसों के ऊपर कभी ध्यान देते ही नही है। हमारी सांसें जितनी कम गहरी होंगी उतना कम ऑक्सीजन शरीर मे पहुँचेगा। जबकि गहरी सांस लेने से ज्यादा ऑक्सीजन पहुँचेगा।

ध्यान के माध्यम से हम अपना ध्यान किसी एक काम पर ज्यादा देर लगाने का अभ्यास कर सकते हैं। यदि हम ऐसा करने में सफल हो जाते हैं हमें इसके कई फायदे मिलेंगे। खासकर विद्यार्थियों को इस बात की बहुत ज्यादा समस्या रहती है कि उनका पढ़ाई में मन नही लगता है।

  • व्यवस्थित जीवन

योग एक क्रियाकलाप नही है बल्कि एक जीवनशैली है। जब हम योग करते हैं और खुद को खुद से जोड़ते हैं तो पाते हैं कि अब हम पहले से ज्यादा व्यवस्थित हो गए हैं। पहले ज्यादा हमारे कोई काम पूरे नही होते थे वहीं अब उन्ही कामों को तय समय मे कर पाते हैं।

  • शारीरिक रोगों से मुक्ति

योग और व्यायाम यदि दोनों हमारे जीवन का एक हिस्सा बन जाये तो हम कई शारीरिक और मानसिक बीमारियों का शिकार होने से बच सकते हैं। योग और व्यायाम शरीर और मन, मष्तिस्क की चुस्ती फुर्ती देता है।

उपसंहार

सभी योग का आखिरी लक्ष्य हमारी चेतना और ब्रम्हांडीय चेतना के बीच एक रूपता स्थित करना है। आचार्य पतंजलि के योग सूत्र और श्री कृष्ण के द्वारा बताए गए योग सूत्रों के नियम जरूर अलग है लेकिन दोनों की मंजिल एक ही बताया गया है।

अपने जीवन के सर्वोच्चम आयाम से परिचित होना चाहते हैं तो योग को जीवन का एक अहम हिस्सा बनाए।

- Advertisement -

Most Popular

Essay on Indian army In Hindi | भारतीय सेना पर निबंध हिंदी में

Essay on Indian Army in Hindi में आज हम आपको Indian Army के विषय में essay on Indian Army life in Hindi, History of...

Essay On Cancer in Hindi | कैंसर पर निबंध हिंदी में

आज के इस लेख में हम कैंसर पर निबंध (Essay on Cancer in Hindi) लेकर आए हैं। इस निबंध का उपयोग कक्षा 1,2,3,4,5,6,7,8,9,10 11...

Essay On Importance Of Hard Work in Hindi | परिश्रम का महत्व पर निबंध हिंदी में

Essay On Importance Of Hard Work in Hindi: परिश्रम का महत्व हमारे जीवन मे कितना अधिक है यह हम सब भलीभांति जानते हैं, खासकर...

Essay on Hindi Diwas in Hindi | हिंदी दिवस पर निबंध हिंदी में

Essay on Hindi Diwas in Hindi: हिंदी भाषा का प्रभाव दुनियाँ में तेजी से बढ़ रहा है। इसकी एक वजह हिंदी भाषा का जमकर...

Recent Comments