Home निबंध Essay On My Village in Hindi | मेरे गाँव पर निबंध हिंदी...

Essay On My Village in Hindi | मेरे गाँव पर निबंध हिंदी में

- Advertisement -
- Advertisement -
- Advertisement -

आज आपके लिए Essay On My Village in Hindi लेकर आए हैं, जिसमे आप जानेंगे ग्रामीण जीवन और गाँवों के बारे में।

इस निबंध को आप सभी परीक्षाओं में लिख सकते हैं। My favourite village essay in hindi, My Lovely Village essay in hindi जैसे निबंधों में भी ये निबंध काम आएगा।

Table of Contents

Essay On My Village in Hindi (मेरे गाँव पर निबंध हिंदी में) – {250 Words}

प्रस्तावना

जब कभी भी शहरों की बड़ी-बड़ी इमारतें और कभी खत्म न होने वाले शोर से परेशान हो जाता हूं तो कुछ पल सुकून के ढूंढते हुए मैं गांव की तरफ निकल जाता हूं।

वैसे आप सबको बता दूं कि मेरा गांव बहुत ही खूबसूरत है। यह मध्य प्रदेश के एक बहुत ही खूबसूरत शहर सतना जिले के अंतर्गत आता है।

हमारे देश के बारे में कहा जाता है कि यदि असली भारत को जानना है तो भारत के गांवों का भ्रमण जरूर करना चाहिए।

मेरा भी एक गाँव है।(Essay On My Village in Hindi)

आज कई ऐसे लोग हैं जो अपने गांव की जमीन,घर आदि बेचकर शहरों में बस गए हैं और गांव के नाम पर उनके पास कुछ भी नहीं है पर मेरा एक गांव है जो बहुत ही खूबसूरत है, इसलिए खुद को खुशनसीब समझता हूँ।

आजीविका का साधन

हर गांव की तरह ही मेरे गांव के लोग भी अपनी आजीविका चलाने के लिए खेती पर निर्भर हैं। मेरे गांव में हर सीजन में दो बार फसल बोई जाती हैं। इन दोनों फसलों के बीच कुछ वक्त के लिए खेत खाली पड़े रहते हैं।

भाईचारे की मिसाल

आपसी भाईचारे की मिसाल यदि कहीं देखनी है तो आप लोगों को मेरे गांव एक बार जरूर आना चाहिए। यहां हर किसान के पास ट्रैक्टर नहीं है फिर भी सभी के खेतों की जुताई वक्त पर हो जाती है।

लोग सिर्फ अपनी खेती के बारे में नहीं सोचते बल्कि दूसरे व्यक्ति भी अच्छे से खेती कर सके और खेतों की बुवाई वक्त पर कर सकें इस बात का विशेष ख्याल रखते हैं।

निष्कर्ष.

गाँव का वातावरण तो साफ रहता ही है साथ मे यहाँ के लोग भी बहुत साफ दिल के होते हैं। मेहमान पड़ोसी के घर मे आये तो भी बगल वाले को खुशी होती है। लोगो को सभी के बारे में जानकारी होती है। गाँव की जीवनशैली में इंसानी मूल्य शामिल होते हैं।

गाँव का विकास (Village Development)

हमारे गांव में पहले इतना विकास नहीं था लेकिन पिछले कुछ वर्षों में गांव का विकास कार्य बहुत तेजी से हुआ है।

पहले हमारा गांव नहर परियोजना से नहीं जुड़ा था लेकिन अब खेतों में सिंचाई के लिए पानी नहर परियोजना के तहत ही उपलब्ध होता है। हमारे गांव के पास का शहर सतना जिला ही है सड़क मार्ग से हमारे गाँव को सतना से जोड़ दिया गया है जो कि पहले नहीं जुड़ा था।

Essay on My Clean Village in Hindi (मेरा स्वच्छ गाँव पर निबंध हिंदी में ) – (500Words)

प्रस्तावना

हमारा देश गांवों का देश कहलाता है क्योंकि यहां की अधिक। आबादी गांवों में निवास करती है। यदि सरकारी आंकड़ों की बात करें तो हमारे देश की। करीब दो तिहाई आबादी आज भी गांवों में रहना पसंद करती है।

कृषि हमारे देश की जीडीपी का एक प्रमुख हिस्सा है जो कि गांव से ही जुड़ा हुआ है। गांव ना सिर्फ देश को स्वच्छ रखने में मदद करते हैं बल्कि देश के विकास में भी काफी अहम योगदान देते हैं।

लेकिन गांवों में पहले एक कमी बहुत ज्यादा देखी जाती थी कि गांव स्वच्छ नहीं होते थे गांव की सफाई पर कोई विशेष ध्यान नहीं दिया जाता था लेकिन मुझे यह बताते हुए खुशी हो रही है कि मेरा गांव अब बहुत स्वच्छ है।

स्वच्छता का महत्व (Importance of cleanliness)

पिछले कुछ वर्षों में जिस तरह से स्वच्छता के ऊपर विशेष तौर पर ध्यान दिया गया है उससे यह परिणाम निकल कर सामने आया है कि लोग स्वच्छता के प्रति जागरूक हुए हैं।

आजकल लोग ना सिर्फ अपनी और अपने घरों की सफाई करते हैं बल्कि अपने आसपास के वातावरण को भी स्वच्छ रखना चाहते हैं.

स्वच्छता का हमारे जीवन में बहुत अधिक महत्व है। यदि इतिहास देखा जाए तो कई सारी बिमारियां सिर्फ इस वजह से हुई है क्योंकि स्वच्छता का अभाव था।

सफाई हमारे जीवन का प्रमुख अंग (Cleanliness is the major part of our life)

जिस तरह से हमारे जीवनयापन के लिए अन्न, कपड़ा और घर जरूरी है, उसी प्रकार हमारे जीवन से बिमारियों को दूर रखने के लिए सफाई की आवश्यकता है।

सफाई एक सामाजिक जिम्मेदारी है जिसे हर व्यक्ति को निभाना चाहिए। दुनिया के अधिकतर इंसान किसी ना किसी धर्म पर भरोसा करते हैं और सफाई के महत्व के बारे में हर धर्म में वर्णन मिलता है।

पूजा-पाठ, नमाज इत्यादि धार्मिक क्रियाकलापों से पहले हमेशा सफाई पर विशेष ध्यान दिया जाता है। लेकिन यह हम लोगों का दुर्भाग्य है की सफाई जैसी महत्वपूर्ण चीज को भी हम बहुत वक्त से नजरअंदाज करते आ रहे हैं।

हम अपनी शारीरिक सफाई पर तो ध्यान देते हैं लेकिन अपने आसपास फैली हुई गन्दगी को साफ करना अपनी ज़िम्मेदारी नहीं समझते इसी का परिणाम है कि आज सफाई के लिए भी स्वच्छ भारत मिशन जैसे अभियान चलाने पड़ रहे है।

हमारा गाँव है स्वच्छ (My Clean Village and Essay On My Village in Hindi)

हमारे गाँव के सभी व्यक्ति सफाई के महत्व को समझते हैं और इसके प्रति जागरूक है। कोई भी व्यक्ति अपने घर का कचरा बाहर नहीं फेकता बल्कि एक डब्बे में भरकर रखता है।

कचरा एकत्रित करने के लिए कचरा लेने की गाड़ी आती है जो सभी घर से कचरा एकत्रित करती है। शौच आदि के लिए भी आज कोई भी बाहर खेतों में नहीं जाता बल्कि हर घर में शौचालय की व्यवस्था की जा चुकी है। गलियों की साफ सफाई का भी विशेष ध्यान रखा जाता है।

निष्कर्ष

सफाई रखना एक सामाजिक जिम्मेदारी है। इसे निभाना हर व्यक्ति का फर्ज है। जो व्यक्ति अभी भी सफाई के प्रति जागरूक नही है, उन्हें इसका महत्व समझाना चाहिए। वही यदि किसी गाँव मे सफाई से संबंधित चीज़े सरकार के द्वारा उपलब्ध नही कर करवाई गई है तो सरपंच को इसकी माँग करना चाहिए।

Essay on my native village in Hindi (मेरे पैतृक गांव पर निबंध हिंदी में)1500 (words)

प्रस्तावना

जीवन में सुकून की तलाश के लिए व्यक्ति हमेशा गांव की तरफ भागता है, क्योंकि ना सिर्फ गांव की आवोहवा स्वच्छ होती है, बल्कि यहां की जीवनशैली भी बहुत ही सरल होती है।

गाँव में भी लोग काम करते हैं लेकिन शहरी जीवन की तरह भागमभाग वाली जिंदगी यहाँ नहीं होती।

गाँवों में आज भी व्यक्ति दूसरों की मदद के लिए हमेशा तत्पर रहते हैं।

जो कि शहरों में अब थोड़ा कम होता दिखाई दे रहा है। महात्मा गाँधी ने कहा था कि भारत को सशक्त करने के लिए देश के गाँवों को मजबूत करना बहुत ज्यादा जरूरी है।

महात्मा गाँधी की यह दूरदृष्टि वाली सोच इस बात का इशारा है कि हमारे देश की प्रगति का रास्ता गांव के विकास से ही होकर जाता है।

मेरे सपनों का गाँव (My dreams and Essay On My Village in Hindi)

गानों की जिंदगी हमेशा ही मुझे आकर्षित करती रही है इसलिए जब भी मुझे मौका मिलता है मैं गाँव जरूर जाता हूं।

मेरे बाबा-दादी और नाना-नानी दोनों ही गाँव में रहते हैं। वह अक्सर ही मुझे अपने यहां घूमने के लिए बुलाते रहते हैं।

खासकर गर्मियों के मौसम में जब हमारी स्कूल की भी छुट्टी होती है साथ ही साथ आम का सीजन भी आ चुका होता है।

जब भी मैं किसी सपने के गाँव के बारे में सोचता हूं तो मुझे अपने ही गाँव का नक्शा दिखाई देता है। क्योंकि मेरे गाँव में वह सब कुछ है जो किसी आदर्श गाँव में होना चाहिए।

मेरा गाँव और उसकी भौगोलिक स्थिति (My village and its geographical location)

मेरा गाँव मध्य प्रदेश के सतना जिले में स्थित है यह सतना जिले से करीब 20 किलोमीटर दूर है। मेरे गाँव में करीब 200 परिवार रहते हैं। मेरे गाँव के अधिकतर लोग हिंदू धर्म को मानने वाले हैं इसमें हर जाति लोग शामिल हैं।

गांव के लोगों का व्यवसाय (My Village Business In Hindi)

यदि हमारे गाँव के प्रमुख व्यवसाय की बात करें तो यह खेती ही है। हर परिवार के पास खेती योग्य जमीन जरूर होती है।

पहले लोग कृषि पर बहुत ज्यादा आश्रित रहते थे लेकिन हमारे गाँव में अब कृषि के साथ-साथ लोग दूसरे व्यवसाय भी करना शुरू कर चुके हैं।

जैसे हमारे गाँव के आसपास की जगहों में शुद्ध दूध की बहुत मांग है इसीलिए गाँव के कुछ लोगों ने दूध बेचने का काम भी शुरू कर दिया है।

वहीं कुछ ऐसे लोग भी हैं जिन्होंने अपने जमीन के खाली पड़े हिस्से में मुर्गीपालन का व्यवसाय शुरू किया है। वहीं कुछ लोग पास के शहरों में मजदूरी करने के लिए भी चले जाते हैं।

गाँव मे त्यौहार (Village Festivals in Hindi)

गाँव मे त्यौहार मनाने का तरीका शहरों की तुलना में थोड़ा अलग है। गाँव मे त्यौहार के मनाने के दौरान पुरानी रीति-रिवाजों का विशेष ध्यान दिया जाता है जबकि शहरों में रीति-रिवाजों के ऊपर इतना ध्यान नही दिया जाता है।

गाँव मे त्योहारों के दौरान सभी खुश होते हैं, एक दूसरे से मिलते हैं, आपसी भाईचारा दिखाई देता है। दीपावली या होली जैसे त्यौहारों के बाद सभी एक दूसरे से मिलते हैं।

घर घर जाकर लोग प्रसाद का वितरण करते हैं और पूरे प्रेमभाव से एक दूसरे को त्यौहार की बधाई देते हैं। त्यौहार किसी भी धर्म और संप्रदाय का क्यों न हो, गाँव के सभी लोग उसमे सम्मलित जरूर होते हैं, और यही बात गाँवों को खास बनाता है।

गाँवों में शिक्षा का महत्व (Importance of Education in Villages)

गाँवों में आज भी उतना शिक्षा को महत्व नही दिया जाता है जितना देना चाहिए क्योंकि आगे आने वाले वक्त में शिक्षित व्यक्तियों की माँग हर क्षेत्र में बढ़ने वाली है।

हमारे गाँव मे हाई स्कूल की सुविधा उपलब्ध है लेकिन आज भी ऐसे बहुत सारे गांव है जहां हाई स्कूल नहीं होता है।

गाँवों में प्राइमरी स्कूल तक की ही सुविधा उपलब्ध होती है इसके आगे की पढ़ाई उन्हें शहर जाकर करनी पड़ती है।

हमारे गाँव में लड़का और लड़की दोनों की शिक्षा को बराबर महत्व दिया जाता है। गांव की सभी लड़कियाँ हाई स्कूल तक की पढ़ाई गाँव। में ही करती हैं।

इसके बाद की पढ़ाई करने के लिए उन्हें शहर जाना पड़ता है। लेकिन कई गाँव में आज भी ऐसा देखने को मिलता है जहाँ लड़का और लड़की को शिक्षा के बराबर मौके नहीं मिलते हैं।

कई गाँवों में लड़कियों की शिक्षा पर इतना ज्यादा जोर नहीं दिया जाता। गाँवों में लड़कियों के ऊपर बहुत ही कम उम्र से पारिवारिक जिम्मेदारियां आ जाती हैं जिसकी वजह से उनकी पढ़ाई छूट जाती है। वही कुछ लड़कियों की पढ़ाई सुविधाओं के अभाव के कारण छूट जाती है।

गाँव की ग्रामपंचायत (Panchayat of Village)

गाँव की ग्रामपंचायत विकास से संबंधित सभी तरह के कार्य देखती है। हर गाँव की तरह हमारे गाँव में भी ग्रामपंचायत है जिसके द्वारा गाँव में कई विकास कार्य करवाए जाते हैं।

पंचायत में 7 पंच और एक सरपंच हैं। राजनीति में महिलाओं का भी योगदान बढ़े इसी उद्देश्य को पूरा करने के लिए पंचायत समिति में 3 महिला पंचों को भी शामिल किया गया है।

हमारे गाँव के पंचायत कमलभान सिंह है। कमलभान सिंह इस वक्त 55 वर्ष के हो चुके हैं। इनका मुख्य व्यवसाय खेती है।

कमलभान सिंह गाँव के बहुत ही प्रतिष्ठित और न्याय प्रिय व्यक्ति हैं। ये हमेशा देश और गाँव की प्रगति के बारे में ही विचार करते रहते हैं, इसी वजह से गांव के लोग इनका बहुत आदर करते हैं।

पिछले 10 वर्षों से गाँव के सरपंच यही हैं। इनके कार्यकाल में गाँवों में बहुत ज्यादा विकास हुआ है। हमारे गांव में पहले सड़के तो थी पर उनकी स्थिति अच्छी नहीं थी लेकिन इन्हें अब सुधरवा दिया गया है।

बिजली कटौती की समस्या भी अब नहीं होती, जिससे किसानों को पर्याप्त बिजली मिलती है। हमारे गाँव की तालाब की सफाई नियमित तौर पर होती रहती है।

गाँव को स्वच्छ बनाने के लिए भी इन्होंने तरह-तरह के प्रयास किए हैं। स्वच्छता के प्रति सबसे पहले उन्होंने लोगों को जागरूक किया और स्वच्छता के महत्व को घर-घर जाकर समझाया। गांव में स्वच्छता बनी रहे इसके लिए भी कई तरह की सुविधाएँ गाँव वासियों को इन्होंने दी हैं।

गाँव का स्वास्थ्य प्रबंधन (Village Health Management)

गाँव के लोग स्वस्थ रहें और उन्हें किसी भी बीमारी का त्वरित उपचार मिल सके इसके लिए गाँव में एक अस्पताल की व्यवस्था भी की गई है।

यह काफी बड़ी अस्पताल है जिसमें करीब 25 बिस्तर हैं। गाँव के सभी लोग बीमार होने पर प्राथमिक उपचार के लिए इसी अस्पताल में जाते हैं।

यहां पर्याप्त मात्रा में डॉक्टर और नर्स मौजूद हैं जो हमारा उपचार और देखरेख करते हैं। यहां आशा कार्यकर्ता भी काफी ज्यादा सक्रिय रहती हैं जो ना सिर्फ गर्भवती महिलाओं को डिलीवरी के लिए अस्पताल ले जाती है बल्कि मां और बच्चे के स्वास्थ्य की समय-समय पर जांच भी करती हैं।

मेलों और खेलकूद को बढ़ावा (Village Fairs and Sports Promotion)

हमारे गाँव में खेलकूद को काफी ज्यादा महत्व दिया जाता है। फुटबॉल,क्रिकेट,वॉलीबॉल जैसे प्रमुख पसंदीदा खेलों की सामग्री ग्रामपंचायत में रखी जाती है।

हमारे गांव की टीमें भी है खासकर हमारे गांव की क्रिकेट टीम बहुत ही अच्छी टीम मानी जाती है। ब्लॉक स्तरीय क्रिकेट कंपटीशन में हमारे गांव की टीम हमेशा ही जीतती है।

हमारे गाँव का प्रमुख आकर्षण मेला भी होता है। हर वर्ष बसंतपंचमी के अवसर पर एक बहुत बड़ा मेला लगता है।

गांव की सुंदरता (Beauty of Village in Hindi)

आज शहरों का वातावरण काफी प्रदूषित हो गया है। शहरों में स्वच्छ हवा मिलना काफी मुश्किल है, परंतु गाँव अभी भी इस स्थिति से काफी दूर हैं।

हमारे गाँव की शान है फलदार वृक्षों से भरे बागान। गांव का हर एक व्यक्ति अपने खेत की मेड़ों पर फलदार वृक्ष लगाकर रखता है।

जिनमें आम, अमरूद, बेर, नीबू, जामुन जैसे पेड़ प्रमुख रूप से लगाए जाते हैं। इन्हीं की वजह से गांव की हवा बहुत ही स्वच्छ रहती है।

हमारे गांव के आसपास कोई भी ऐसी फैक्ट्री नहीं है जो प्रदूषण का कारण बने। गांव वाले भी अपना जीवन बहुत ही संयम के साथ जीते हैं जिसकी वजह से कम संसाधन होने के बावजूद भी एक अच्छा जीवन यापन कर पाते है।

हमारे गांव में पानी की समुचित व्यवस्था है। गांव में एक बड़ा तालाब है जिसका पानी हम सब उपयोग करते हैं।

गाँव के लोगों की स्थिति (Status Of Village people)

हमारे गाँव में भले ही कई तरह की सुविधाएँ मौजूद है लेकिन दुर्भाग्यवश सभी किसानों की आर्थिक स्थिति एक जैसी नहीं है।

कई किसान आर्थिक रूप से तो बहुत सक्षम है लेकिन अधिकतर किसानों की स्थिति अच्छी नहीं है। गाँव के अधिकतर लोग गरीबी रेखा के नीचे हैं।

हालांकि अब सरकार इस बात की बहुत कोशिश कर रही है कि गाँव में रहने वाले लोगों का जीवन स्तर बेहतर हो सके और सरकार की इस कोशिश का असर भी हमारे गाँव में अब दिखाई देता है।

जहाँ पहले हमारा गाँव बिजली ना होने के कारण अंधकार में डूबा रहता था वही अब ऐसी समस्या नहीं है।

स्वास्थ्य और शिक्षा से संबंधित सुविधाएँ अच्छी हो रही हैं। लोगों को किसानी के साथ-साथ और कई तरह के व्यवसाय शुरू करने के लिए न सिर्फ प्रोत्साहित किया जा रहा है बल्कि उनको ऐसा करने के लिए उचित जानकारी भी दी जा रही है।

ग्रामीण और शहरी जीवन में भिन्नता (Variation in rural and urban life in Village)

गाँव और शहरों में जीवन जीने के तरीके में बहुत ज्यादा अंतर है। ग्रामीण जीवन और शहरी जीवन दोनों के कुछ सकारात्मक पहलू हैं और कुछ नकारात्मक पहलू भी हैं।

जैसे शहरों में रोजगार के बहुत अधिक साधन उपलब्ध होते हैं। जबकि गाँवों में लोग अधिकतर खेती पर निर्भर होते हैं। यदि गांव के आसपास आसपास कुछ रोजगार उपलब्ध है तो वह भी बहुत सीमित मात्रा में होते हैं।

लेकिन ग्रामीण जीवन में तनाव, चिंता, दबाव जैसी मानसिक स्थितियों से व्यक्ति को नहीं गुजरना पड़ता, जबकि शहरी जीवन में यह एक आम बात हो चुकी है।

शहरों में लोग पैसा तो काफी ज्यादा कमाते हैं, सुख सुविधाओं की तमाम चीजें भी मौजूद होती हैं लेकिन मानसिक शांति नहीं मिल पाती।

जबकि ग्रामीण जीवन सुविधाओं के लिहाज से शहरी जीवन की तुलना में बहुत पीछे हैं लेकिन लोग मानसिक तौर पर शांत होते हैं, अभावों के बीच भी ग्रामीण लोग सुखी होते हैं जो की इनकी सबसे बड़ी पूँजी है।

उपसंहार

इस बात में कोई संदेह नही है कि गाँवों का जीवन न सिर्फ प्रकृति के ज्यादा करीब है, बल्कि प्रकृति से जुड़ा हुआ भी है। ग्रामीण जीवन शैली में प्रकृति को बहुत कम नुकसान होता है।

लेकिन सुविधाओं के आभाव में लोग शहरों की तरफ पलायन कर रहे हैं, जो कि एक चिंता का विषय है। अधिकतर युवा खेती नही करना चाहते क्योंकि इसमें ज्यादा फायदा नही दिखाई देता।

यह एक गंभीर समस्या है, जिस पर समाज और सरकार दोनों को विचार करना चाहिए।

FAQ

ग्रामीण जीवन की समस्या क्या है? What is the problem of rural life?

ग्रामीण जीवन की मूल समस्या सुविधाओं की कमी है। शहरों की तुलना में यहाँ कम सुविधा रहती है।

ग्रामीण जीवन की विशेषताएं क्या है? What are the characteristics of rural life?

प्रेमभाव, भाईचारा, जीवन के प्रति नजरिया, स्वच्छ वातावरण और प्रकृति से निकटता ही ग्रामीण जीवन कि विशेषता है।

ग्रामीण जीवन के लाभ क्या है? What are the benefits of rural life?

प्रकृति से निकटता, संसाधनों का गुलाम न बनना, मेहनती स्वभाव, इंसानी मूल्य समझने वाले लोगो के रहना यही ग्रामीण जीवन का लाभ है।

ग्रामीण जीवन को बेहतर कैसे बना सकते हैं? How to make rural life better?

खेती को प्रोत्साहित करके, गाँवों में मूलभूत सुविधाएँ देकर, लोगो को रोजगार मुहैया कराकर ग्रामीण जीवन को बेहतर किया जा सकता है।

- Advertisement -

Most Popular

Essay on Indian army In Hindi | भारतीय सेना पर निबंध हिंदी में

Essay on Indian Army in Hindi में आज हम आपको Indian Army के विषय में essay on Indian Army life in Hindi, History of...

Essay On Cancer in Hindi | कैंसर पर निबंध हिंदी में

आज के इस लेख में हम कैंसर पर निबंध (Essay on Cancer in Hindi) लेकर आए हैं। इस निबंध का उपयोग कक्षा 1,2,3,4,5,6,7,8,9,10 11...

Essay On Importance Of Hard Work in Hindi | परिश्रम का महत्व पर निबंध हिंदी में

Essay On Importance Of Hard Work in Hindi: परिश्रम का महत्व हमारे जीवन मे कितना अधिक है यह हम सब भलीभांति जानते हैं, खासकर...

Essay on Hindi Diwas in Hindi | हिंदी दिवस पर निबंध हिंदी में

Essay on Hindi Diwas in Hindi: हिंदी भाषा का प्रभाव दुनियाँ में तेजी से बढ़ रहा है। इसकी एक वजह हिंदी भाषा का जमकर...

Recent Comments