Home निबंध Essay on Cow in Hindi | गाय पर निबंध हिंदी में

Essay on Cow in Hindi | गाय पर निबंध हिंदी में

- Advertisement -
- Advertisement -
- Advertisement -

Table of Contents

Essay on Cow in Hindi | गाय पर निबंध हिंदी में {100 Words}

Essay on Cow in Hindi: गाय भारत की एक सबसे अधिक सम्मानित जानवर है, जिसे माँ का दर्जा मिला हुआ है। भारतीय शास्त्रों में लिखा हुआ की गाय में 33 प्रकार के देवताओं का वास होता है।

इसी वजह से गाय को भारत मे पूजा जाता है। गाय का दूध काफी उत्तम माना जाता है। गाँवों में खासकर घर घर मे गाय होती है। यह दिन में दो बार दूध देती है। यदि गाय का दूध छोटे बच्चों को पिलाया जाए तो उनमें स्फूर्ति आती है।

गाय एक बहुत ही संवेदनशील जानवर भी मानी जाती है। यदि घर में किसी तरह का दुख है तो गाय भी अक्सर दुखी नजर आती है। हिन्दू धर्म के लोग गाय माँ की तरह पूजते हैं।

गौ सेवा इस संसार से मुक्ति का द्वार भी माना जाता है इसलिए गाय का महत्व हमारे समाज मे और भी ज्यादा बढ़ जाता है।

10 Lines On Cow in Hindi

  • गाय एक चार पैरों वाली जानवर है, जिसके दो आँख, दो कान, एक मुँह, दो सींग, एक लंबी पूँछ और 2 आँखे होती है।
  • गाय के चार थन होते हैं, जिनसे दूध निकलता है।
  • भारत मे गाय को माँ का दर्जा दिया गया है, इसीलिए गाय की पूजा की जाती है।
  • गाय एक शाकाहारी जानवर है जो घास, भूसा आदि खाती है।
  • गाय की विभिन्न नस्लें मौजूद है, जो अलग अलग देशो में पाई जाती है।
  • गाय के दूध से विभिन्न प्रकार की मिठाईयां बनती है।
  • गाय एक अहिंसक और सामाजिक जानवर है।
  • भारत मे गौ पालन का विशेष महत्व है इसलिए गाय पाला जाता है।
  • गाय के लिए गौ शालाएं भी खुलवाई जाती है जहाँ आवारा गायों को रखा जाता है।
  • गाय के गोबर का उपयोग ईंधन के रूप में भी किया जा सकता है।

5 Sentences About Essay On Cow in Hindi

Essay on Cow For Class 1 in Hindi (150words)

प्रस्तावना.

हमारे समाज मे गाय को एक विशेष स्थान दिया गया है। ये एक पूज्यनीय जानवर है, जिसका महत्व बहुत ज्यादा है। गाय न सिर्फ आध्यात्मिक रूप से बहुत अहम जानवर है बल्कि गाँवों की अर्थव्यवस्था में भी बहुत अहम किरदार निभाती है।

गाय की संरचना.

गाय एक चतुष्पदी जानवर है। सभी चतुष्पदी जानवरों की तरह इसके भी चार पैर रहते हैं। दो आँखें, दो कान और एक मुँह के अलावा गाय के सिर में दो सींग होती है, जिससे वो अपनी सुरक्षा करती है।

गाय में एक उदर होता है जो काफी बड़ा होता है। शरीर के पिछले हिस्से पर एक लंबी पूछ होती है,जिसकी सहायता से वो अपनी सफाई करती है।

गाय जुबाली भी करती है। यानी कि पहले वो खा लेती है, जो उसके पेट मे चला जाता है। इसके बाद पेट मे गए भोजन को दोबारा गाय खिंचती है और फिर से चबाती है।

यदि गाय जुबाली करती है तो इसका मतलब है कि वह स्वस्थ है। यदि गाय जुबाली नही करती तो गाय बीमार है।

उपसंहार.

गाय एक बहुत ही फायदेमंद जानवर है। इसका दूध पीने से छोटे बच्चो में फुर्ती आती है और दिमाग तेज होता है।

Short and Long Essay on Cow in Hindi (300words)

प्रस्तावना.

गाय एक सी पशु है जिसको माँ का दर्जा दिया गया है। खासकर यदि भारत मे मौजूद हिन्दू समुदाय की बात करें तो गाय उनकी आस्था का केंद्र है। हिन्दू धार्मिक ग्रंथों में लिखा हुआ है कि गाय में 33 करोड़ देवी देवताओं का वास रहता है।

यदि कोई व्यक्ति अपने जीवनकाल में गाय की सेवा करता है और उनका खयाल रखता है तो मृत्यु के उपरांत उसे भवसागर से मुक्ति मिल जाती है।

गाय से प्राप्त चीजों की उपयोगिता.

गाय से हमें गोबर, गौ मूत्र, दूध, दही, मक्खन, छाछ और आदि मिलता है, जिनका अलग अलग उपयोगी होता है।

गाय से मिलने वाली सभी चीज़े उपयोग में आती है। इसी वजह से प्राचीन काल से ही गाय हमारे जीवन का हिस्सा रही है।

गाय के गोबर से गोबर गैस बनाई जा सकती है। साथ ही गोबर की खाद भी बना सकते हैं, जिसे खेतों में डालने के बाद उनकी उर्वरक क्षमता बढ़ती है, और किसी तरह का नुकसान भी नही होता।

जब गाय बनी हमारे जीवन का हिस्सा.

हमारा देश एक कृषि प्रधान देश है। ऐसे में किसानों को किसी ऐसे जानवर की जरूरत थी जो उनके साथ रह भी सकें और उनकी जरूरतें पूरी कर सकें।

इस जगह पर गाय सबसे उपयुक्त रही क्योंकि खेतों की फसल के बाद जो अतिरिक्त कचरा बचता था, वह गाय खा सकती थी।

साथ ही खेतों में घास भी मिल जाती थी, जिससे उनका भरण पोषण हो जाता था। गाय की एक और सबसे बड़ी विशेषता यह है कि ये बहुत ही शांत स्वभाव की होती है। उनसे किसी को कोई खतरा नही होता है। इस वजह से किसी को गाय पालने में भी दिक्कत नही होती है।

उपसंहार.

गाय का महत्व बहुत ज्यादा है। हम सब गाय को पूजते हैं, उन्हें माँ का भी दर्जा देते हैं लेकिन धरती का यह खूबसूरत जीव कभी कभी धार्मिक विवादों का केंद्र बन जाता है और इंसानों की इस लड़ाई में बेवजह इस जानवर से अच्छा व्यवहार नही किया जाता।

इसलिए यह समझना बहुत जरूरी है कि जानवरों में भी जान होती है और उन्हें भी दर्द होता है। जानवरों के भी अधिकार है और उन्हें उन अधिकारों से वंचित नही करना चाहिए।

Essay on Cow in Hindi (1000words)

प्रस्तावना.

वैसे तो हर एक जानवर बहुत ही प्यारा होता है लेकिन सभी मामलों में गाय को शास्त्रों में एक विशेष स्थान दिया गया है। गाय वह जानवर है जिनकी पूजा होती है और घर मे बनी पहली रोटी गाय को देने के लिए कहा जाता है।

शास्त्रों में इस लिखा है कि गाय जन्म उस वक़्त हुआ था जब देवताओं और दानवों के बीच समुद्र मंथन चल रहा है। समुद्र मंथन से कई चीज़े निकली थी, जिनमे से एक गाय भी थी।

गाय के सभी प्रकार

गाय भी अलग अलग प्रकार की होती है, जैसे कि हमारे देश मिलने वाली देश गाय कद में छोटी होती है वही दूसरे देशों की गाय का कद बड़ा होता है। रंग-रूप,कद-काठी और दूध देने की क्षमता के आधार पर गाय को कई अलग अलग वर्गों में विभाजित किया गया है:-

साहीवाल प्रजाति की गाय गाय

साहीवाल गाय का जन्म पाकिस्तान के साहीवाल में माना जाता है। यह गाय देशी नस्ल की सभी गायों की तुलना में सबसे ज्यादा दूध देती है।

यदि इस गाय को सही भोजन दिया जाए तो यह प्रतिदिन 18-20 लीटर दूध देने में सक्षम है। इस गाय की कीमत भारत मे 40,000-60,000 रु. तक रहती है।

भारत मे यह गाय मुख्य रूप से हरियाणा, पंजाब में मिलती है। जो दूध का व्यापार करते हैं उन्हें यह गाय बहुत ही ज्यादा पसंद आती है।

गीर प्रजाति की गाय

ये भी भारतीय मूल की ही गाय है जो दक्षिण भारत के कठियाबाद में मुख्य रूप से मिलती है। एक वयस्क गाय प्रतिदिन 12 लीटर से भी ज्यादा दूध दे सकती है। ऐसी इन गायों की उम्र अधिकतम 15 वर्ष तक होती है।

अपने पूरे जीवनकाल में ये गायें 10-12 बच्चों को जन्म देती है। देशी नश्ल की ये गायें भी बहुत दुधारू मानी जाती है और दूध का व्यापार करने वाले लोग अधिकतर इन्ही को पालते हैं।

लाल सिंधी प्रजाति की गाय.

यह गाय पंजाब के सिंध प्रांत में मिलती है इसलिए इसके नाम के सिंधी शब्द जुड़ा है। इसका रंग गहरा लाल होने की वजह से लाल सिंधी गाय कहा जाता है।

यह गाय साल में औसतन 1600 लीटर दूध दे ही देती है। इस वजह से इसे भी दुधारू गाय माना जाता है। इसका शारीरिक आकार भी औसत ही होता है।

राठी नस्ल, कांकरेज, थारपरकर प्रजाति की गाय.

यह गाय मुख्य रूप से राजस्थान में मिलती है। यह भी एक देशी नश्ल की दुधारू गाय मानी जाती है, जो प्रतिदिन 6-8 लीटर दूध दे ही देती है।

इन्ही गायों के ऊपर एक यूनिवर्सिटी में शोध हुआ था, जिसमे इनके खान पान पर विशेष ध्यान देने के बाद इनकी दूध देने के क्षमता दोगुना से भी ज्यादा हो गई थी।

कंगायम प्रजाति की गाय.

इस प्रजाति की गायें दक्षिण भारत के कोयंबटूर में अधिक पाई जाती है। एक बार जब ये गायें दूध देना शुरू कर देती है तब से लेकर 12 साल तक दूध देती है। इस नश्ल की गायें बहुत ही ज्यादा फुर्तीली होती है।

मेवाती प्रजाति की गाय

इस प्रजाति की गाय मुख्य रूप से हरियाणा राज्य में मिलती हैं। इन गायों के पैर लंबे होते हैं साथ ही गिर जाति के गायों से इनके कुछ लक्षण मिलते जुलते है। ऐसी गायें दुधारू मानी जाती है जो कम से कम 12 वर्षों तक तो दूध देती ही है।

गाय का महत्व (Importance of Cow in Hindi)

भारत मे गाय को बहुत ज्यादा महत्व दिया जाता है,खासकर गाँवों में। कई लोगो के जीविका का आधार ही गाय होती है। वो गायों से मिलने वाले दूध को बेचते हैं और पैसे कमाते हैं। इसके अलावा भी गाय के कई महत्व है.

गाय का धार्मिक और आध्यात्मिक महत्व (Religious and spiritual importance of Cow)

भारत मे गाय सिर्फ एक जानवर नही है बल्कि करोड़ो हिंदुओ के लिए आस्था का केंद्र है। ऐसा माना जाता है कि गाय में 33 करोड़ देवी देवताओं का निवास होता है।
गाय जिस भूमि पर कदम रख देती है वह भूमि पवित्र हो जाती है। गाय को पवित्रता का प्रतीक माना गया है। साथ ही गाय सबसे पवित्र जानवर भी है।

भारत मे कई ऐसे त्यौहार है जहाँ जब न सिर्फ गायों की पूजा होती है बल्कि साथ बैल भी पूजे जाते हैं। दीपावली के पहले भगवान धनवंतरी के साथ गाय को भी पूजा जाता है।

वही श्रावण मास के आखिरी में बैल को भी पूजा जाता है। गायों का धार्मिक महत्व बहुत ज्यादा है। जब कोई व्यक्ति अपनी मृत्युशैया पर होता है तब उसके हाथों से गौदान करवाया जाता है।

इसके पीछे मान्यता है कि मृत्यु के बाद आत्मा को रास्ता दिखाने का काम गाय ही करती है। हमारे रसोई में बनने वाली पहली रोटी गाय को ही दी जाती है। ऐसा कहा जाता है कि पहली रोटी गाय को देने से रसोई में माँ अन्नपूर्णा का निवास हमेशा बना रहता है।

कृषि क्षेत्र में गाय का महत्व (Importance of Cow in Agriculture)

किसी एक गाय को कुल गोबर 5 एकड़ भूमि को उर्वरक बना सकता है, साथ मे गौमूत्र 10 एकड़ भूमि से कीट-पतंगों का सफाया कर सकते हैं।
गाय के गोबर और मूत्र से जो खाद बनती है वह न सिर्फ भूमि की उर्वरक छमता को बढ़ाती है बल्कि साथ पानी का खपत भी कम होता है। खेतों में गोबर की खाद डालने से 5 गुना कम पानी की जरूरत पड़ती है।

गाय के दूध से बनने वाले उत्पाद का महत्व (Importance of Cow’s Milk Product)

गाय के दूध से बनने वाले उत्पादों का महत्व न सिर्फ भारत मे है बल्कि पूरी दुनियाँ में है। गाय के दूध से घी, दही, छाछ, पनीर आदि चीज़े बनती है जो न सिर्फ हमारे स्वास्थ्य के लिहाज से तो बहुत अच्छी है ही साथ मे लोगो को रोजगार भी उपलब्ध कराती है।

भारत जैसे देश में जहाँ हर माह कोई न कोई त्यौहार जरूर आता है, मिठाई की खपत बहुत ही ज्यादा होती है। जिन लोगो के पास पास अच्छी मिठाई बनाने का हुनर है वो अच्छा पैसा कमा सकते हैं।

गाय के गौ मूत्र का महत्व (Importance of Cow Urine)

भारतीय आयुर्वेद (Essay on Cow in Hindi) में गौमूत्र का बहुत अधिक महत्व है। इसमे कई ऐसी दवाइयों का जिक्र किया गया है जिसमे गौमूत्र का इस्तेमाल किया जाता है।

खासकर त्वचा से संबंधित बीमारियों को दूर करने के लिए गौमूत्र बहुत ही ज्यादा उपयोगी है।

महाभारत के नकुल को गौमूत्र से जुड़ी कई उपाय मालूम थे जिनका जिक्र मिलता है। इसमे बताया गया है कि यदि किसी जहरीली वस्तु को 3 से 7 दिन गौ मूत्र में रखा जाए तो उसका जहर खत्म हो जाता है।

इसके साथ ही यह भी कहा गया है कि गौ मूत्र को यदि पूरे घर मे छिड़का जाए तो इससे घर मे शुद्धता आती है।

गाय के गोबर का महत्व (Importance of Cow Dung)

गाय के गोबर (Essay on Cow in Hindi) का उपयोग लोग ईंधन के तौर पर भी करते हैं। गोबर के कंडों से गाँव मे भोजन बनता है। गोबर की मदद से ही गोबर गैस और गोबर की खाद बनती है। गोबर की खाद खेतों में डालने से इसकी उर्वरक क्षमता में काफी इजाफा होता है।

गोबर के कंडे जलाने से वातावरण में मौजूद कीटाणुओं का खात्मा होता है साथ ही वातावरण का तापमान संतुलित रहता है। 1984 में जो भोपाल गैस हादसा हुआ था, उसमे करीब 20,000 से भी ज्यादा लोगो की मृत्यु हो गई थी, जिनके घर मे गोबर से छपाई हुई थी, वो सभी बच गए थे।

गाय की घी का महत्व.

जिस तरह से पीपल का पेड़ स्वच्छ ऑक्सीजन देता है, जबकि बाकी अभी पेड़ Co2 छोड़ते हैं,ठीक उसी तरह घी से भी ऑक्सीजन मिलता है। यदि हम गाय के जलते हुए कंडे में एक चम्मच घी भी डालते हैं तो 1 टन ओसिज़न पैदा होती है। इसी वजह से हवन करते वक़्त गाय के गोबर से बने कंडे और घी से हवन किया जाता है।

उपसंहार.

गाय एक ऐसा जानवर जो बहुत उपयोगी है। उसके द्वारा हमें जो भी मिलता है वो सब कुछ हमें फायदा ही पहुचाता है। लेकिन फिर भी गायों की स्थिति उतनी अच्छी नही है।

खासकर शहर की गायें, सड़क की गायें पन्नी, कागज खाती है जिससे उनके पेट मे ये सब जमा हो जाता है और फिर इसकी वजह से इनकी मृत्यु हो जाती है। इस पर कुछ ध्यान देना जरूरी है।

कामधेनु गाय से संबंधित प्रचलित कहानी.

ऐसा कहा जाता है प्रथम गाय कामधेनु गाय थी जिसका जन्म समुद्र मंथन से हुआ था। कामधेनु गाय से जो भी मांगा जाता है वह मिल जाता था।

कामधेनु गाय सभी की इच्छा पूर्ति करने वाली थी। इसी वजह से हर कोई कामधेनु गाय को पाना चाहता था। लेकिन कोई पा नही सका।

कामधेनु गाय के बारे में एक कथा बहुत ही ज्यादा प्रचलित है। एक बार सहस्त्रार्जुन ऋषि जमदग्नि के आश्रम गए। ऋषि के पुत्र परशुराम थे। ऋषि ने राजा और उसकी विशाल सेना का पूरे दिल से स्वागत किया।

सभी सेना के लिए भोजनादि का प्रबंध किया। लेकिन राजा यह देखकर हैरान था कि सेवकों की संख्या भी ज्यादा नही है फिर भी इतना जल्दी सब कुछ कैसे हो रहा है।

तब राजा को पता चला कि ऋषि के पास एक गाय है जो इच्छा पूर्ति कर देती है। गाय के बारे में सुनते ही राजा के मन मे गाय लेने की लालसा जाग उठी। उसने तुरंत ऋषि से गाय लेने की इच्छा जाहिर की लेकिन ऋषि ने यह कहते हुए मना कर दिया कि आश्रम में ज्यादा सेवक नही है।

लेकिन राजा को तो ले ही जाना था। इसलिए उसे गुस्सा आ गया और उसने ऋषि का आश्रम तहस नहस कर दिया और जबरजस्ती गाय ले जाने की कोशिश करने लगा।

लेकिन वह ऐसा कर नही पाया और गाय स्वर्ग चली गई। इसके बाद जब भगवान परशुराम आये और यह सब देखा तो उन्हें बहुत गुस्सा आया और उन्होंने सहस्त्रबाहु को मारने का संकल्प किया।

इसके बाद वो सहस्त्रबाहु ही नगरी उसे मारने के लिए निकल पड़े। उसके बाद सहस्त्रबाहु अर्जुन और भगवान परशुराम के बीच भीषण युद्ध हुआ, जिसमे परशुराम को विजयी प्राप्त हुई। इस युद्ध मे सहस्त्रबाहु को परशुराम ने कई टुकड़ों में काट दिया था।

गौ माता के उद्धरण (Gau Mata Quotes in Hindi)

गाय का मान ही राम का मान है। राम का जन्म गौ का ही वरदान है॥ गाय के वंश से भूमि हँसती सदा। गाय में राष्टृ की शान वसती सदा॥ गोबर से उर्वरा धरती को करती हैं। चमड़ी भी अपनी हमको अर्पित करती हैं॥ रोम-रोम जिनका करता है उपकृत हमको। दूध-दही-घृत से पूरित करती जीवन को॥

खेतों में इसके गोबर से, हम सोना उपजायें। भारत की पावन भूमि से, कटता गोवंश बचायें॥ गोरक्षा कर कृष्ण चन्द्रजी, गोवर्धन, गोपाल कहलाये। गोरूपी पृथ्वी की पुकार सुन, प्रभु श्रीराम जन्म ले आये॥

(Essay on Cow in Hindi) जब गाय नहीं होगी, गोपाल कहां होंगे। हम सब इस दुनियाॅ में, खुशहाल कहाॅ होंगे॥ जब गाय नहीं होगी……. सिंगो पर गऊ माॅ ने; सृष्टि ये धारी है। भोले शिवशंकर की, नन्दी पे सवारी है। नन्दी के बिना भोले, असवार कहाॅ होंगे॥ जब गाय नहीं होगी……. हत्या कर परोस देते हैं तन थाली में। रक्त बहा देते हैं माता का नाली में॥ चलो करें संकल्प बंद हो इनकी ह्त्या। वरना पाप डंसेगा हमको बनकर कृत्या॥

सब वेद पुराण गाय की महिमा गाते है,
गाय की रक्षा करने स्वयं भगवान आते है.

- Advertisement -

Most Popular

Essay On Importance Of Hard Work in Hindi | परिश्रम का महत्व पर निबंध हिंदी में

Essay On Importance Of Hard Work in Hindi: परिश्रम का महत्व हमारे जीवन मे कितना अधिक है यह हम सब भलीभांति जानते हैं, खासकर...

Essay on Hindi Diwas in Hindi | हिंदी दिवस पर निबंध हिंदी में

Essay on Hindi Diwas in Hindi: हिंदी भाषा का प्रभाव दुनियाँ में तेजी से बढ़ रहा है। इसकी एक वजह हिंदी भाषा का जमकर...

Paragraph On Exam Result Day in Hindi | पैराग्राफ ऑन एग्जाम रिजल्ट डे इन हिंदी

परीक्षा परिणाम जिस दिन घोषित होता है उसके ठीक एक दिन पहले हर विद्यार्थी तनावग्रस्त रहता है। Paragraph On exam Result Day in Hindi...

Essay On Digital Shiksha Ek Vardan Hai Ya Abhishap | डिजिटल शिक्षा एक वरदान है या अभिशाप पर निबंध

Essay on Digital Shiksha ek Vardan hai ya Abhishap की जरूरत कई विद्यार्थियों को होती है। जैसा कि आज डिजिटल शिक्षा का चलन बहुत ज्यादा...

Recent Comments