Home निबंध Essay in Hindi on the advantages and disadvantages of mobile phones |...

Essay in Hindi on the advantages and disadvantages of mobile phones | मोबाइल फ़ोन के लाभ और हानि पर एस्से इन हिंदी

- Advertisement -
- Advertisement -
- Advertisement -

Advantages and Disadvantages of Mobile Phones and Internet ने हमारी जिंदगी में जितने बड़े परिवर्तन किये है इतना किसी और ने नही किया है। आज हम अपने कई कामों के मोबाइल फ़ोन पर ही निर्भर रहते हैं।

लेकिन कहते हैं कि है कि हर चीज़ के कुछ फायदे होते है तो कुछ नुकसान भी होते है, ठीक है ऐसा ही Mobile phone और Internet के साथ भी है। Mobile Phone ke Labh aur Hani Essay in Hindi में हम जानेंगे मोबाइल फ़ोन के फायदे और नुकसान।

साथ ही जानेंगे जानेंगे Advantages and disadvantages of internet in hindi.

इस निबंध को सभी कक्षा के students अपनी अपनी परीक्षाओं में लिख सकते हैं।

Short and Long Essay on Advantages and Disadvantages of mobile phones in Hindi

Mobile Phones ने हमारे जीवन को बहुत आसान बना दिया है या ये कहें कि चमत्कारिक बदलाव किया है तो कोई अतिसंयोक्ति नही होगी।

पहले के जमाने मे लोग किसी का हालचाल जानने के लिए चिट्ठी भेजा करते थे। चिट्ठी आने जाने में ही 10-15 दिन लग जाते थे।

लेकिन अब जमाना बदल गया है। मोबाइल फ़ोन के आने के बाद से संचार का तरीका और गति बिलकुल बदल गई है।

यदि हमें किसी की याद आती है तो उसे तुरंत फ़ोन करके बात कर सकते हैं, किसी को देखना चाहते हैं तो वीडियो कॉल कर सकते हैं, संदेश भेजकर पल भर में किसी की खैरियत जान सकते हैं।

इस बात से कोई इंकार नही कर सकता कि मोबाइल फ़ोन के कारण हमारे जीवन मे बहुत गति आई है। लेकिन साथ ही साथ इसके कुछ दुष्परिणाम भी है जिन्हें समाज झेल रहा है।

मोबाइल फ़ोन में ज्ञान का भंडार है तो वही दूसरी तरफ ऐसी सामग्री भी मौजूद है जिनके संपर्क में आने से हमारा जीवन गलत दिशा में जा सकता है।

मोबाइल का उपयोग अधिकतर मनोरंजन के उद्देश्य से ही किया जाता है। हम या तो वीडियो देखने में वक़्त बिताते हैं या फिर मोबाइल गेम खेलने में वक़्त गुजार देते है।

आजकल हर टेलीकॉम कंपनियां लगभग 1 GB Data देती ही है, लेकिन इसका 90% इस्तेमाल हम फिजूल के कामों में ही करते हैं।

मोबाइल का बुरा प्रभाव सबसे ज्यादा किशोरों के ऊपर पड़ रहा है। हम कोई न कोई ऐसी ख़बर सुनते ही रहते हैं जहां कोई किशोर किसी मोबाइल गेम का लती हो जाता है और फिर उसमें हारने के कारण या तो अवसाद में चला जाता है या फिर आत्महत्या करने की कोशिश करता है।

मोबाइल फ़ोन के कारण सामाजिक दूरियाँ भी बढ़ रही है। यानी मोबाइल एक ऐसा यंत्र है जो बहुत फायदा भी दे सकता है तो नुकसान भी पहुंचा सकता है। इसीलिए हमें मोबाइल का सीमित उपयोग ही करना चाहिए।

Essay in Hindi on the Advantages and Disadvantages of mobile phones | मोबाइल फ़ोन के लाभ और हानि पर निबंध (2000 words)

प्रस्तावना

एक वक्त था जब मोबाइल फ़ोन सिर्फ बड़ों के पास रहता था, लेकिन आज यह बच्चो की भी बहुत अहम जरूरत बन गया है।

मोबाइल फ़ोन के बिना आजकल कोई नही रहता है। हर किसी के पास स्मार्टफोन और उसमे इंटरनेट जरूर होता है।

ऐसी स्थिति में यह जानना जरूरी हो जाता है कि हम जिस यंत्र के ऊपर इतना ज्यादा निर्भर होते जा रहे हैं क्या वह सिर्फ फायदा ही पहुंचा रहा है, या इसके कुछ नुकसान भी है।

मोबाइल फ़ोन के फायदे और नुकसान (Advantages and Disadvantages of Mobile Phones)

मोबाइल फ़ोन हमारे लिए फायदेमंद भी है और नुकसानदेह भी है। इसका हमारे ऊपर क्या प्रभाव पड़ेगा यह इस बात पर निर्भर करता है कि हम फ़ोन का उपयोग किस तरह कर रहे हैं।

चलिए जानते हैं मोबाइल फ़ोन के कुछ लाभ:-

  • मोबाइल फ़ोन संचार की दुनियाँ में एक क्रांति लेकर आया है। यदि 70-80 के दशक की बात करें तो उस वक़्त संचार के लिए चिट्ठियों का इस्तेमाल होता था। यह प्रक्रिया बहुत वक़्त लेती थी।लेकिन मोबाइल Phone ने संचार को अब बहुत आसान बना दिया है। पल भर में आप दुनियाँ के किसी भी कोने में बैठे व्यक्ति से बात कर सकते हैं।
  • यदि मोबाइल फ़ोन नही होते तो लोग इंटरनेट का उपयोग भी नही कर पाते क्योंकि देश-दुनियाँ से अधिकतर इंटरनेट यूजर मोबाइल में इंटरनेट चलाते हैं। मोबाइल फ़ोन हर किसी के पास होता है जबकि कंप्यूटर नही होता
  • मोबाइल और इंटरनेट ने एक साथ मिलकर आज पढ़ाई को बहुत आसान बना दिया है। आजकल Internet की मदद से घर मे बैठे बैठे कुछ भी सीख सकते है, ऑनलाइन कोर्स कर सकते हैं।
  • मोबाइल मनोरंजन का एक बड़ा साधन बनकर सामने आया है। कई लोग खाली वक़्त में अपने दिमागी तनाव को कम करने के लिए या तो मोबाइल में कोई Game खेल लेते है, या फिर कोई गाना या वीडियो देख लेते हैं। यानी मोबाइल के आने के बाद लोग अपने मनोरंजन के लिए मोबाइल पर निर्भर हुए हैं।
  • हर किसी के लिए कंप्यूटर खरीदना संभव नही होता लेकिन मोबाइल हर कोई खरीद सकता है क्योंकि कंप्यूटर की तुलना में मोबाइल बहुत सस्ते आते हैं।वही यदि दोनों के उपयोगिता की बात करें तो आज के स्मार्टफोन लगभग वह सभी काम कर सकते हैं, जो कंप्यूटर कर सकते हैं। इसलिए यदि मोबाइल फ़ोन को कंप्यूटर का विकल्प कहें तो गलत नही होगा।
  • आजकल कई ऐसे तरीके आ गए जिनके जरिए फोन से ही पैसों का लेनदेन कर सकते हैं। बैंकिंग से संबंधित कई सुविधाएं मोबाइल में ही मिल जाती है, इसलिए मोबाइल के ऊपर हमारी निर्भरता और ज्यादा बढ़ी है।
  • मोबाइल के जरिए ऑनलाइन खरीददारी कर सकते हैं। अपनी पसंद का खाना किसी भी होटल से मंगवा सकते हैं। यानी यह कहें कि मोबाइल ने पूरी दुनियाँ को आपकी मुट्ठी में लाकर रख दिया है तो कहना गलत नही होगा।
  • यदि किसी दूसरे शहर में जा रहे हैं तो अपने परिवार के साथ संपर्क में रह सकते हैं।
  • महिलाओं के लिए आजकल कई सुविधाएं फ़ोन में दी जाने लगी है। जैसे किसी गलत परिस्थिति में फस जाने पर तुरंत इमरजेंसी कॉल कर सकते है।
  • मोबाइल की मदद से सोशल मीडिया से जुड़े रह सकते हैं। सोशल मीडिया आजकल बहुत ज्यादा उपयोग किया जाता है। यहाँ नए दोस्त बना सकते हैं।

मोबाइल फ़ोन के नुकसान (Disadvanatges of Mobile Phones)

मोबाइल के फायदे भले ही अनगिनत है लेकिन इसकी कड़वी सच्चाई यह है कि यह हानिकारक भी है, और और इसका फायदा की जगह नुकसान ज्यादा झेल रहे है।

आइए जानते हैं कि मोबाइल फ़ोन के नुकसान क्या है:-

  • वक़्त की बर्बादी

मोबाइल फ़ोन वक़्त को बर्बाद करने वाली सबसे अच्छी मशीन है। सबसे दिलचस्प बात यह है कि हमें इस बात का एहसास भी नही होगा कि हम मोबाइल में वक़्त बर्बाद कर रहे हैं।

जिस उम्र में युवाओं के हाथ मे किताबे होनी चाहिए, उस उम्र में मोबाइल होता है। पहले कहा जाता था कि विद्याथियों को समय प्रबंधन का महत्व समझना चाहिए और अपना वक़्त पढ़ाई में लगाना चाहिये क्योंकि यह वक़्त दोबारा नही आने वाला है।

लेकिन आज इसका उल्टा हो रहा है। युवा अपना टाइम मोबाइल में गेम खेलने में बर्बाद करते हैं उसके बाद जो समय बचता है, वो सोशल मीडिया में बर्बाद हो जाता है।

  • गोपनीय चीज़े चोरी होने का डर

हम सब अपने मोबाइल पासवर्ड, बैंक से जुड़ी जानकारियाँ आदि मोबाइल में रखते हैं। लेकिन कभी यह नही सोचते कि यदि ये किसी न चोरी कर लिया तो हमें काफी ज्यादा नुकसान हो सकता है।

  • सेहत को नुकसान

अधिक मोबाइल चलाने से सेहत को नुकसान होता है। लगातार मोबाइल स्क्रीन में देखने से आंखों पर बुरा असर पड़ता है। गर्दन झुकाकर लगातार मोबाइल चलाने से गर्दन में दर्द हो सकता है।

लगातार बैठे रहने से शरीर मे मोटापा बढ़ने लगता है। शरीर की क्रियाशीलता घटती है और आलसी होने लगता है। मोबाइल से रेडिएशन भी निकलता है, जो हमारे हृदय को नुकसान पहुचाता है।

मोबाइल फ़ोन ध्यान कमजोर करता है। नोटिफिकेशन की घंटी बजते ही लोग तुरंत फ़ोन चेक करते हैं भले ही वह कितना भी जरूरी काम क्यों न कर रहे हो। कुछ लोगो की आदत होती है कि हर 10-15 मिनट के बाद फ़ोन जरूर चेक करते हैं फिर एक बार फ़ोन हाथ में आ गया तो कितना ज्यादा बर्बाद हो गया, यह पता ही नही चलता।

  • दुर्घटना का कारण

आजकल युवा इयरफोन फ़ोन लगाकर बाइक चलाते है, यहाँ तक रोड पार करते वक़्त भी इयरफोन कान में ही रहता है जिसका परिणाम यह होता है कि उन लोगो का ध्यान सड़क पार करने में नही होता। ऐसी ही लापरवाही दुर्घटना को अंजाम देती है।

  • दिमाग की क्षमता कम होना

मोबाइल फ़ोन के अधिक उपयोग से दिमागी क्षमता कम होती है। जैसे पहले छोटी छोटी बातों को याद रखते थे लेकिन आजकल मोबाइल में लिख लेते हैं।

फ़ोन डायरी अब इतिहास का हिस्सा हो गई है। आजकल किसी को अपने परिवार वालों का नंबर याद नही रहता क्योंकि लोगो को याद करने की जरूरत महसूस नही होती।

छोटी मोटी गणना करने के लिए मोबाइल का कैलकुलेटर इस्तेमाल करते है। पहले वर्ष की महत्वपूर्ण तिथियों को याद रखा जाता था, लेकिन अब याद नही रहते क्योंकि गूगल की मदद से तुरंत देख सकते हैं।

तो यह कहा जा सकता है कि मोबाइल ने हमें सुविधा तो जरूर दी है लेकिन हमारी दिमागी क्षमता कम हो रही है। यदि हम अपने दिमाग का उपयोग नही करेंगे तो दिमागी क्षमता और घटती जाएगी।

  • अनिद्रा की बढ़ती शिकायत

मोबाइल और इंटरनेट के मिश्रण ने रातों की नींद आंखों से गायब कर दी है। लोगो के सोने का कोई एक तय समय नही रहता। लोग रात रात भर मोबाइल में या तो गेम खेलते रहते हैं या फिर वीडियो देखते रहते हैं।

इसी वजह से लोगो मे अनिद्रा की शिकायत आजकल काफी ज्यादा बढ़ गई है। नींद पूरी नही होने का असर काम करने की क्षमता पर पड़ता है, और व्यक्ति उतने अच्छे तरीके से अपने जरूरी काम नही कर पाता है।

  • महिलाओं के लिए बेहद बुरा

एक रिपोर्ट में यह बताया गया है कि पुरुषों के मुकाबले महिलाएं अपना ज्यादा वक़्त यूट्यूब और सोशल मीडिया में बिता देती है। महिलाओं की मनःस्थिति पर इसका काफी नकारात्मक प्रभाव पड़ता है।

  • अकेलेपन को बढ़ावा

मोबाइल ने सोशल मीडिया दिया है लेकिन लोगो को सोशल नही बनाया। सोशल मीडिया में तो हमारे कई मित्र होते हैं लेकिन मुसीबत के वक़्त हमारा साथ वाला 1 मित्र भी मिलना मुश्किल होता है।

मोबाइल के वजह से लोग असामाजिक होते जा रहे हैं। पहले के लोग शाम के वक़्त एक जगह बैठा करते थे। पुरुष की अपनी अलग मंडली होती थी, महिलाओं की अलग होती थी।

बच्चे बाहर मैदान में क्रिकेट, फुटबॉल, लुकाछिपी जैसे बड़े ही दिलचस्प खेल खेला करते थे। लेकिन मोबाइल ने यह प्रथा अब बदल दी है।

हम लोग उनसे दोस्ती कर रहे हैं जो हमसे मीलों दूर बैठे हुए हैं लेकिन अपने पड़ोसी से 5 मिनट बात करना मुश्किल हो जाता है।

यहाँ तक ही हम अपने ही परिवार वालों के साथ बहुत कम वक्त बिताते हैं क्योंकि दिन तो फ़ोन चलाने में गुजर जाता है।

  • रिश्तों के टूटने की वजह

कई लोगो के वैवाहिक रिश्ते सिर्फ इस वजह से टूट जाते हैं क्योंकि दोनों में से कोई व्यक्ति मोबाइल में ज्यादा वक्त बिताता है और अपने साथी को बहुत कम वक्त देता है।

यह एक बहुत ही गंभीर स्थिति है जहां व्यक्ति अपने रिश्ते से ज्यादा तरजीह मोबाइल और सोशल मीडिया के दोस्तों को देता है।

Internet Advantages and Disadvantages in Hindi (इंटरनेट के फायदे और नुकसान हिंदी में)

मोबाइल फ़ोन की तरह ही Internet के फायदे और नुकसान है।

Advantages of the internet in Hindi (इंटरनेट के फायदे हिंदी में)

  • जानकारी की उपलब्धता

Internet ने किसी भी जानकारी तक लोगो की पहुँच बहुत आसान बना दिया है पहले ऐसा नही होता था। पहले हमारे पास जानकारी हासिल करने के साधन सीमित थे।

हम या तो किताबों के माध्यम से कुछ जान पाते थे या फिर टीवी, या किसी जान पहचान वाले व्यक्ति से सुनकर जान पाते थे लेकिन अब ऐसा नही है।

हमको हर प्रकार की जानकारी बहुत आसानी से मिल सकती है बस अपने मोबाइल या लैपटॉप में इंटरनेट का कनेक्शन होना चाहिए।

  • शिक्षा को बनाया आसान

Internet के कारण ई-लीर्निंग बढ़ी है। पहले हम एक ही शिक्षक पर निर्भर होते थे किसी विषय को समझने के लिए पर अब ऐसा नही है।
Youtube, Unacademy जैसे कई ऐसे माध्यम है जहाँ हमें कई योग्य शिक्षक मिल जायेंगे जो पढ़ाने के बदले हमसे कोई फ़ीस नही लेते हैं।

  • रोजगार का एक जरिया

इंटरनेट आज रोजगार का एक जरिया बन चुका है। आज कई ऐसे काम है जो इंटरनेट से संबंधित है। यदि कोई भी अच्छी मेहनत और लगन के साथ काम करता है तो वह इंटरनेट की मदद से एक अच्छा कैरियर बना सकता है।

इंटरनेट का दायरा अब काफी बढ़ चुका है। पहले सिर्फ बड़ें शहरों में ही इंटरनेट यूजर होते थे, लेकिन आजकल गाँव मे भी लोग इसे चलाने लगे है।

  • बिज़नेस को बढ़ावा

यदि कोई अपने बिजनेस को बढ़ाना चाहता है तो इंटरनेट का सहारा लेता है। आजकल बड़ी बड़ी कंपनियां यही तरीका अपना रही हैं। अपने व्यापार का प्रचार करने के लिए डिजिटल मार्केटिंग का सहारा ले रही है जो इंटरनेट के बिना संभव नही है।

आजकल अपने उत्पादों या सेवाओं को बेचने के लिए भी लोग इंटरनेट का ही सहारा लेते है। अपने उत्पाद से संबंधित वेबसाइट बनाकर पहले लोगो तक पहुँच बनाते है, फिर बेचते हैं।

  • सोशल नेटवर्क

इंटरनेट के कारण ही आज दुनियाँ Global Village के तौर पर जानी जाती है। इंटरनेट ने सभी देश के लोगो को जोड़ा है, जबकि पहले ऐसा नही था।

जब दो अलग अलग देश के लोग एक दूसरे से किसी भी माध्यम से जुड़ते हैं तो दूसरे देश के प्रति हमारी समझ बढ़ती है। हम उस देश के लोगो को और बेहतर जान पाते है, इंटरनेट के कारण कुछ ऐसा ही हुआ है।

आज दुनियाँ के किसी भी देश मे कोई घटना होती है तो उसकी सूचना हमें पल भर में मिल जाती है, यह Internet की ही देन है।

यदि किसी देश मे मानवता विरोधी घटना होती है तो हम सोशल मीडिया के जरिए उसकी निंदा करते हैं और इन सब बातों का प्रभाव वाकई में पड़ता है।

यदि इंटरनेट नही होता तो हम किसी अन्याय के खिलाफ आवाज नही उठा पाते, और यदि उठाते भी तो वह ज्यादा लोगो तक नही पहुँच पाती।

यदि आसान शब्दों में कहें तो इंटरनेट ने हम जैसे आम लोगो को भी एक मंच दिया है जहाँ अपनी भावनाएं हम व्यक्त कर सकते है।

  • E- कॉमर्स को बढ़ावा

E- कॉमर्स का मतलब है Electronic Commerce। हम खरीददारी के जो भी काम Internet की मदद से करते हैं वो E- कॉमर्स के अंदर ही आएगा।

किसी भी तरह की Ticket बुकिंग करना हो, कोई सामान खरीदना हो या फिर पैसों का लेनदेन। ये सब 
E- कॉमर्स का ही हिस्सा है। जब से देश में इंटरनेट ज्यादा उपयोग किया जाने लगा है तब से E- कॉमर्स का उपयोग भी ज्यादा बढ़ा है।

Disadvantages of the internet in Hindi (इंटरनेट के नुकसान हिंदी में)

  • हैकिंग की समस्या

इंटरनेट की सबसे बड़ा नुकसान है हैकिंग। काफी सारे लोगो के सोशल मीडिया एकाउंट हैक हो जाते है। इसके बाद लोगो को धमकियां भी दी जाती है, और कुछ माँग उनके सामने रखी जाती है। ऐसी घटनाओं से लोग मानसिक तौर पर बहुत ज्यादा परेशान होते हैं।

  • वायरस की समस्या

वायरस भी एक बहुत बड़ी चुनौती है। यदि यह आपके कंप्यूटर में इंस्टॉल हो जाये तो कंप्यूटर में मौजूद जानकारियाँ चोरी हो सकती है। आपका कंप्यूटर काम करना बंद कर देता है।

  • डेटा बेचे जाने का खतरा

आजकल कई बड़ी बड़ी कंपनियां हमारे डेटा को अच्छी कीमत पर बेचती है। जब भी हम किसी सोशल मीडिया प्लेटफार्म में कोई एकाउंट बनाते है तो वहाँ पर अपनी निजी जानकारियाँ देते हैं।

फिर कुछ बड़ी कंपनियां इसी डेटा को जरूरतमंद कंपनियों को बेच देती है। यानी कि हमारा डेटा बिलकुल भी सुरक्षित नही है।

  • अश्लील सामग्री तक आसान पहुँच

आजकल इंटरनेट पर अश्लील सामग्री का भरमार है। ऐसे में यदि कोई बच्चा इन तक पहुँच जाए और इनको देखने लगे तो मानसिक विकास बहुत ज्यादा प्रभावित होता है। ऐसे बच्चो के अंदर मानसिक विकृति आ जाती है। लेकिन असली समस्या यह है कि इस सामग्री तक पहुँचना बहुत आसान है।

  • ई मेल स्पैम

आजकल ईमेल के जरिए बहुत ज्यादा धोखाधड़ी के केस होने लगे है। लोगो को ऐसे लुभावने ईमेल भेजे जाते है जिनको देखकर कोई भी उनपर क्लिक करने को मजबूर हो जाता है। लेकिन जैसे ही क्लिक हुआ तो आपके बैंक खाते से जुड़ी काफी जानकारियाँ स्पैमर के पास चली जाती है।

मोबाइल फ़ोन और इंटरनेट के दुष्प्रभाव से बचाव के तरीके (Avoid the ill effects of mobile phones and the Internet)

  • कार्य सूची

अनावश्यक मोबाइल के उपयोग से बचने के लिए अगले दिन की कार्यसूची पहले ही बनाकर रख लें, ताकि मोबाइल चलाने का ज्यादा वक्त ही न मिले।

  • मोबाइल के एप्पलीकेशन

आपके मोबाइल में जो गैर जरूरी Apps है उनको हटा दें। आप ऐसे Apps को भी हटा दे जो आपका सबसे ज्यादा समय लेती हैं।

  • सोशल मीडिया से दूरी

आज के युवाओं की एक बड़ी समस्या सोशल मीडिया है। इसको समस्या नही बल्कि समाधान बनाएं। आज के वक़्त में सोशल मीडिया पर रहना भी जरूरी है लेकिन इस पर अनावश्यक समय न बिताएं।

  • नोटिफिकेशन बंद रखें

जब काम कर रहे हो उस वक़्त मोबाइल की नोटिफिकेशन बंद कर दें, या फिर आवाज बंद कर दें ताकि उसकी आवाज से आपका ध्यान फ़ोन की तरफ न जाए।

  • बच्चो को फ़ोन ज्यादा देर के लिए न दे

यदि कोई बच्चा सिर्फ पढ़ाई के लिए फ़ोन और इंटरनेट ले रहा है तो सिर्फ उतने ही वक़्त के लिए फ़ोन दे। बच्चो को ज्यादा फोन न चलाने दे, इसकी जगह किताब पढ़ने के लिए प्रेरित करें।

  • परिवार के महत्व को समझें

यदि आप किसी काम के लिए फ़ोन उपयोग कर रहे हैं तो वह बात ठीक है लेकिन यदि जरूरत से ज्यादा मनोरंजन के लिए उपयोग कर रहे हैं और परिवार को वक़्त नही दे रहे तो यह बहुत गलत है।

हमें अपने परिवार का महत्व समझना चाहिए। आज जैसा वक़्त है हमेशा वैसा ही नही रहेगा यह सोचकर आप परिवार वालो के साथ वक़्त बिताए।

रिश्तों को मजबूत बनाएं। हर एक पल का आनंद लेने के कोशिश करें। हर एक रिश्ते में अपना दायित्व जरूर निभाएं क्योंकि आज जो इस दुनियाँ में है कल नही होगा। हो सकता है उसके जाने के बाद आप इस बात के लिए पछताएं की भरपूर वक़्त नही बिताया।

  • शारीरिक गतिविधि को बढ़ाएं

यदि किसी को मोबाइल चलाने की लत लग गई है तो उसे शारीरिक गतिविधि ज्यादा करना चाहिए। सुबह घूमने जाएं। व्यायाम करें। सुबह प्रकृति की खूबसूरती को निहारें, और महसूस करें कि इस दुनियाँ में बहुत कुछ है जो उस मोबाइल की स्क्रीन में दिखने वाले चीजों से खूबसूरत है।

उपसंहार.

मोबाइल और इंटरनेट में बहुत ताकत है। यदि इस ताकत को सृजन करने में उपयोग करेंगे तो अच्छा परिणाम मिलेगा और यदि गलत उपयोग करेंगे तो हमारा विनाश होगा। अब यह हमें निर्धारित करना है कि इस ताकत का उपयोग किस तरह करना चाहते है।

- Advertisement -

Most Popular

Essay on addiction in Hindi and His Causes and Effects of Technology

Essay on addiction in Hindi को सही से परिभाषित किया जाय तो इस का सीधा मतलब है बुरी आदत की लत। जब इंसान को...

Essay on Lord Buddha and Gautam in Hindi and His Full Life Story and Biography in Hindi

Essay on Lord Buddha and Gautam in Hindi: भगवान बुद्ध का जन्म लगभग 563 ईसा पूर्व में कपिलवस्तु के समीप लुंबिनी वन (आधुनिक रूमिंदाई...

Essay on Seasons in India in Hindi | Rainy Seasons in Hindi

Essay on seasons in India in Hindi से हम जानेंगे कि भारत की ऋतुएं खुद में बहुत ख़ास है। भारत इस पूरे विश्व का...

Essay on Importance of Family in Hindi | Family Values for Kids and Friends

Essay on importance of family in Hindi की  सहायता से हम जानते हैं कि family यानी कि परिवार हमारे जीवन में काफी महत्वपूर्ण भूमिका...

Recent Comments