Home वजन घटना Does staying a day without AC and fan switched on help you...

Does staying a day without AC and fan switched on help you lose weight

- Advertisement -
- Advertisement -
- Advertisement -

Bina AC Aur FAN Vajan Kam Karane Mein Aapakee Madad Kar Sakata Hai | बिना एसी और फैन वजन कम करने में आपकी मदद कर सकता है | Does staying a day without AC and fan switched on help you lose weight

आजकल युवाओं में एक बड़ी समस्या हो चुकी है और वो है बजन का बढ़ना जो बेहद सोचनीय है क्योंकि बढा हुआ बजन साथ मे कई बड़ी बीमारियों को लाता है जो हमारे जीवन को परेशानी में डाल सकती हैं,तो क्यों न हम पहले से ही अपने बजन को न बढ़ने दें जिससे हम कई बड़ी बीमारियों से बचाव कर सकते है,जिसके लिए हमे अपनी रोजमर्रा की आदतों में बदलाव और खान पान के तरीकों को भी बदलना होगा जो बजन कम करने के लिए बहुत जरूरी हैं।

हमे लगता है कि A.C. और पंखे हमारे लिए जरूरी है और जिसके रहते हमे गर्मी की बजह से कोई विमारी नही लगेगी तो आप गलत सोचते है क्योंकि पंखे और A.C. खुद कई बीमारियों को जन्म देती है सबसे पहले अगर देखे तो A.C. से क्लोरो फ्लोरो कार्बन गैस निकलती है जो वायुमण्डल को प्रभावित करती है और बात पंखे की करे तो पंखे से अप्राकृतिक हवा आती है जो हमारी हड्डियों में जकड़न पैदा करती है जिससे हमारा शरीर बेवजह दर्द करने लगता है।

(और पढ़ें – जामुन विनेगर बेनिफिट्स फॉर वेट लॉस)

ज्यादा तर देखा गया है कि बजन पंखे और A.C. में रहने से ही बढ़ता है तो आज हम आपको बताएंगे कि पंखे और A.C. के स्विच को बंद करने से क्या हम अपना बजन कम कर सकते हैं,ये बात सुनकर शायद आप चौंक जाएंगे लेकिन ये बात सच है हम पंखे या A.C.को बंद कर अपने बजन को सच मे कम कर सकते है और ये शोध हो चुका है,यहां आपको बताएंगे कि किस तरह आप कुछ आदतों को ठीक कर अप्राकृतिक हवा में रहकर भी अपने बजन को कन्ट्रोल कर सकते हैं बिना किसी भी अंग्रेजी दवा या इंजेक्शन के।

A.C. और पंखे में नही निकल पाता पसीना

जैसा हमे पता है कि हमारा शरीर 90 प्रतिशत पानी से बना है ऐसे में जब हम A.C.में रहते है तब हमारे शरीर मे जो विषाक्त पदार्थ होते हैं जिनमे फैट की मात्रा भी होती है,उन्हें बाहर नही निकाल पाते जिससे वो हमारे शरीर मे ही एकत्र होते रहते है जिससे बजन बढ़ने लगता है,हमे सुबह एक्सरसाइज करते समय जितना हो सके पसीने को निकलने देना चाहिए जो बेहद जरूरी है, अपने देखा होगा कि जिस व्यक्ति के पसीना अधिक निकलता है वो अच्छे स्वास्थ्य को प्राप्त करता है,हमे A.C. का टेंप्रेचर ज्यादा कम नही करना चाहिए और साथ मे अगर आप पंखे में रहते है तो आपको पंखे का रेगुलेटर स्विच लगाना चाहिए जिससे आप हवा हो कम कर सकें।

A.C. में सोने से हो जाता है आलस

हम A.C. में रहतेरहते अलसी भी होने लगते है हम बाहर नही निकलते हम पैदल नही चलते लेकिन खानां तो बराबर खाते रहते है जिससे कैलोरी तो मिलती है,हमे लेकिन हम कोई शारीरिक मेहनत करके उसे खर्च नही करते जिससे वो हमारे शरीर मे फैट के रूप में जम जाती है और मोटापा बढ़ने लगता है।

पंखे में सोने से हो जाती है जकड़न

A.C. के साथ ही अगर बात पँखो की हो तो वो भी बहुत जरूरी है क्योंकि पंखों के द्वारा प्राप्त हवा भी हमे नुकसान पहुचाती है जिसकी हमे A.C. की तरह ज्यादा आदत तो नही लगती लेकिन हमारी हड्डियों को नुकसान देती है जिससे बेबजह शरीर मे दर्द रहता है।

A.C.में खाना बारबार खाते हैं हम

जब हम शीतलता में रहते है तब हमे लगता रहता है कि हम भूखे है जिससे बिना भूख के ही हम आराम से बैठकर बारबार खाना खा लेते है जिससे हमारे बजन में तेजी आ जाती है और हम मोठे हो जाते हैं।

A.C. और पँखो में अधिक नींद आना

जब हम अच्छे शीतल मौसम में होते है तब हमें ज्यादा नींद आती है जिससे हम अधिक सोते है,हम बेबक्त दिन में भी सोए रहते है और आलस से भरे रहते हैं चूंकि ज्यादा सोना भी मोटापे का एक बड़ा कारण हैं तो हमे छोटीछोटी बातों का भी ध्यान रखना होगा और हमे अपने पंखे या A. C. को बंद करना होगा या फिर कम करना होगा।

एक्सरसाइज करना

चूंकि आलस बहुत रहता है तो हम जितना हो सके सोने की ही कोशिश करते है और ऐसे में एक्सरसाइज का बिल्कुल भी ध्यान नही रखते जिससे बजन बाद जाता है और हम बीमारियों का शिकार होने लगते हैं।

बाहर निकलना

हम कई बार ऐसी आदतों में घिर जाते है जहां से हम निकलना भी चाहे हो तो नही निकल सकते  वैसे ही एक आदत है A.C. या पंखे में रहने की हम जब A.C. या पंखे में रहने लगते है तब हमें बाहर का मौसम गर्म लगने लगता है जिससे जितना हो सके हम बाहर न निकलने के बहाने ढूढ़ते रहते हैं और जो बेहद खतरनाक है क्योंकि जब हम बाहर निकलेंगे नही तब तक हमारा शरीर जरूरी शारीरिक मेहनत नही कर पाता और अतिरिक्त फैट हमारे शरीर मे इकट्ठा होने लगता है,जिस कारण बजन बढ़ने लगता है।

क्या करना चाहिए हमे ताकि पंखे और A.C. में बजन बढे

  • पंखे में रेगुलेटर लगा कर कम स्पीड में चलाएं।
  • हमे जितना हो सके उतना A.C.या पंखे से बाहर रहना चाहिए।
  • A.C. का तापमान 25 डिग्री से कम न रखें तभी हमारे शरीर को उसकी आदत नही पड़ेगी।
  • हमे अप्राकृतिक हवा से निकलकर शाम को छत पर प्राकृतिक हवा में भी टहलना चाहिए।
  • जितना हो सके हमे कम नींद लेनी चाहिए।
  • हमे बारबार की बजह एक बार ही खाना खाना चाहिए।
  • हमे बिल्कुल भी आलस नही करना चाहिए जब लगे की दिन में भी नींद आ रही है तब थोड़े समय के लिए A.C.या पंखे को बन्द कर देना चाहिए या फिर उसकी स्पीड कम कर देनी चाहिए।
  • बक्तबक्त पर बाहर निकल कर भी घूमना चाहिए।
  • हमे सुबह घर के बाहर अवश्य टहलने जाना चाहिए जहां अगर हो सके तो थोड़ी तेज भागना भ चाहिए।
  • सुबह एक्सरसाइज करें जिससे हमारे शरीर के विषाक्त पदार्थ पसीने के माध्यम से निकल जाएं।
- Advertisement -

Most Popular

Essay on Indian army In Hindi | भारतीय सेना पर निबंध हिंदी में

Essay on Indian Army in Hindi में आज हम आपको Indian Army के विषय में essay on Indian Army life in Hindi, History of...

Essay On Cancer in Hindi | कैंसर पर निबंध हिंदी में

आज के इस लेख में हम कैंसर पर निबंध (Essay on Cancer in Hindi) लेकर आए हैं। इस निबंध का उपयोग कक्षा 1,2,3,4,5,6,7,8,9,10 11...

Essay On Importance Of Hard Work in Hindi | परिश्रम का महत्व पर निबंध हिंदी में

Essay On Importance Of Hard Work in Hindi: परिश्रम का महत्व हमारे जीवन मे कितना अधिक है यह हम सब भलीभांति जानते हैं, खासकर...

Essay on Hindi Diwas in Hindi | हिंदी दिवस पर निबंध हिंदी में

Essay on Hindi Diwas in Hindi: हिंदी भाषा का प्रभाव दुनियाँ में तेजी से बढ़ रहा है। इसकी एक वजह हिंदी भाषा का जमकर...

Recent Comments