Home वजन घटना Benefits, advantages and disadvantages of Copper-T and how it works

Benefits, advantages and disadvantages of Copper-T and how it works

- Advertisement -
- Advertisement -
- Advertisement -

कॉपर टी क्या है, कैसे  काम करता है और इसके फायदे एवं नुकसान किस प्रकार से हैं। Copper-T kya hai, kaise  kaam karata hai aur isake phaayade evan nukasaan kis prakaar se hain | Benefits, Advantages and disadvantages of copper-T

वैसे दोस्तों आज के समय में विवाहित कपल सबसे पहले एक दूसरे के साथ ज्यादा से ज्यादा वक्त बिताना पसंद करते हैं और इस बीच में वह बच्चे की प्लानिंग नहीं करते हैं। ऐसे में सवाल उठता, है कि हम अपने सुखी विवाहित जीवन को बिना बच्चों के चिंता मुक्त होकर कुछ समय के लिए किस प्रकार से सुरक्षित रूप में आनंद ले सकते हैं। वैसे तो बाजार में बहुत सारे गर्भनिरोधक उपचार एवं गोलियां आदि मौजूद होती है। जो महिलाएं नहीं चाहते हैं, कि वह अभी मां बने तो ऐसे में वह सबसे सुरक्षित उपाय copper-t को लगवाना पसंद करती हैं। आज हम अपने इस लेख के माध्यम से आपको बताएंगे, कि copper-t क्या है कैसे कार्य करती है और इसके फायदे एवं नुकसान इसको लगाने से किस किस प्रकार से हो सकते हैं। शादीशुदा जीवन को सुखमय तरीकों में शामिल copper-t गर्भनिरोधक उपचार के बारे में जानने के लिए यह हमारा लेख अंतिम तक अवश्य पढ़ें।

गर्भनिरोधक के सभी उपचारों में copper-t क्या होती है ?

अनचाहे गर्भ से छुटकारा पाने वाली महिलाओं के लिए copper-t की एक ऐसा गर्भनिरोधक उपकरण या आईडीयू होता है, जो सुरक्षित, सस्ता एवं गर्भनिरोधक के सभी उपचारों में सबसे प्रभावशाली उपचार माना जाता है। यह बहुत ही छोटे आकार का उपकरण होता है और यह प्लास्टिक और कॉपर के बने हुए धातुओं का मिश्रण होता है। इसके निर्माण में सबसे ज्यादा कॉपर (तांबा) और इसका आकार टीका होता है, तो इसे copper-t के नाम से जाना जाता है। यह हमारे देश में सबसे ज्यादा गर्भनिरोधक उपचारों में से एक मात्र प्रसिद्ध उपचार माना जाता है। इसका इस्तेमाल हाल ही में बनी मां और जो शीघ्र मां नहीं बनना चाहती हैं, वे बेहद करना पसंद करती हैं। इस उपकरण को महिलाओं की योनि में स्थापित किया जाता है। जो महिलाएं इसके इस्तेमाल के बाद मां बनने की सोचती हैं, वह इसको निकलवा कर गर्भधारण कर सकती हैं।

Copper-t किस प्रकार से महिलाओं की योनि में यह उपकरण गर्भधारण से महिलाओं को सुरक्षित रखता है?

जो महिलाएं शीघ्र गर्भ नहीं धारण करना चाहती उनके लिए copper-t एकमात्र सुरक्षित उपाय हो सकता है। जब copper-t को महिलाओं के गर्भाशय में सही प्रकार से स्थापित कर दिया जाता है, तब यह अपना काम करना प्रारंभ कर देती है। Copper-t के चारों तरफ लगा हुआ, कॉपर महिलाओं के गर्भ को प्रभावित करने में कार्य करता है। जब महिलाओं का गर्व प्रभावित होता है, तब भी गर्भधारण नहीं कर पाती हैं।इस उपकरण में मिश्रित कॉपर की मात्रा गर्भाशय ग्रीवा और गर्भाशय के अन्य तरल के साथ मिलकर उस में कॉपर की मात्रा को बढ़ा देता है और उसके बाद यही कॉपर जब अधिक मात्रा में मौजूद हो जाता है, तब यह द्रव शुक्राणु नाशक के रूप में कार्य करने लगता है और गर्भाशय तक पहुंचने से पहले ही शुक्राणु बज के संपर्क में आकर नष्ट हो जाते हैं और वह अपना कार्य नहीं कर पाते। जब महिलाओं के गर्भ में अंडा निषेचित नहीं हो पाता है, तो महिलाएं प्रेग्नेंट नहीं हो पाती हैं।

क्या copper-t का इस्तेमाल महिलाओं के लिए एक सुरक्षित उपाय गर्भनिरोधक के रूप में कार्य करता है ?

हम जितने भी गर्भनिरोधक दवाइयां या फिर इमरजेंसी गर्भनिरोधक दवाइयां खाते हैं, उनके कई ज्यादा डॉक्टरों के अनुसार यह उपचार सुरक्षित और महिलाओं के स्वास्थ्य संबंधित भी लाभदायक माना जाता है। इसके इस्तेमाल से महिलाओं का गर्व प्रभावित नहीं हो सकता है और वह जब चाहे तब इसको निकलवा कर गर्भधारण आसानी से कर सकती हैं। जबकि कई अन्य दवाएं मौजूद है, जिनके इस्तेमाल से अनेकों प्रकार के नुकसान हो सकते हैं। अत्यधिक मात्रा में गर्भनिरोधक दवाइयों का सेवन करने से महिलाएं कभी भी मां नहीं बन पाती और फिर वह इन दवाइयों के इस्तेमाल से बहुत ज्यादा पछताते हैं। इन सभी चीजों को ध्यान में रखते हुए सबसे सुरक्षित यदि कोई भी गर्भनिरोधक उपचार हो सकता है, तो वह एकमात्र copper-t ही हो सकता है।

Copper-t के इस्तेमाल के फायदे एवं नुकसान किस प्रकार से हो सकते हैं ?

हम आपको बताना चाहते हैं कि जिस भी चीज के फायदे होते हैं, उसके अवश्य कुछ ना कुछ नुकसान भी होते ही हैं। तो चलिए जानते हैं, आपको कॉपर टी लगवाने के क्याक्या फायदे हो सकते हैं और इसके इस्तेमाल से क्या क्या नुकसान हो सकते हैं, जो इस प्रकार से निम्नलिखित रूप में वर्णित किए गए हैं।

  1. copper-t इस्तेमाल के कुछ फायदे :-
  • Copper-t बहुत ही कम समय में और कारगर रूप में , जो महिलाएं गर्भधारण नहीं करना चाहते हैं, उनके लिए यह काफी ज्यादा प्रभावशाली होता है।
  • जिन महिलाओं को हार्ट अटैक, ब्लड क्लॉट जैसी परेशानियां यदि होती हैं और उनके हारमोंस में यदि उतारचढ़ाव होता है, तो उनके लिए हारमोंस का उतार चढ़ाव काफी ज्यादा हानिकारक हो सकता है। यह सभी समस्याएं अन्य प्रकार की गर्भनिरोधक उपचारों एवं दवाइयों के इस्तेमाल से हो सकता है, परंतु यदि महिलाएं गर्भनिरोधक के लिए copper-t का इस्तेमाल करती हैं, तो वह इस सभी झंझट से मुक्त रहती हैं।
  • जो महिलाएं गर्भनिरोधक के लिए प्रॉपर्टी का इस्तेमाल करती हैं, उन्हें कभी भी त्वचा और फर्टिलिटी के संबंधित इसका बुरा असर नहीं पड़ता है। इसके इस्तेमाल से वजन बढ़ने मुहासे और सेक्श ड्राइव जैसे समस्याएं भी नहीं रहती हैं।
  • उसकी एक बार इस्तेमाल से महिलाओं को 3 वर्ष से लेकर 5 वर्ष तक गर्भधारण नहीं कर सकती हैं और यह सस्ते में काफी कारगर भी होता है।
  • जब भी महिलाएं मां बनना चाहे वह इसको अपने गर्भाशय से बाहर निकलवा कर गर्भधारण कर सकती हैं और मां बन सकती हैं।

2. Copper-t के इस्तेमाल से कौनकौन से मुख्य रूप से नुकसान होते हैं :-

  • जो महिलाएं copper-t का इस्तेमाल करती हैं, अक्सर copper-t लगवाने के बाद शुरुआती समय में और समय रक्तस्राव और पीरियड के दर्द संबंधित समस्याएं हो जाती हैं। यह समस्याएं ज्यादा समय तक नहीं रहती, कुछ समय बाद सही हो जाती है।
  • जो महिलाएं कबड्डी का इस्तेमाल करती हैं, उनमें से कुछ महिलाओं को खुजली या फिर रीसेज जैसे समस्याएं भी हो जाती है, परंतु वह डॉक्टर से समस्याओं का हल प्राप्त कर सकती हैं।
  • यदि copper-t फिसल कर नीचे चली जाती है, तो यह महिलाओं के योनि में संक्रमण का खतरा पैदा कर सकती है परंतु ऐसा बहुत ही न्यूनतम किसमें होता है।यदि समय पर किसी भी प्रकार की समस्या आपको महसूस हो रही है, तो आप चिकित्सक से परामर्श ले सकती हैं।
  • कई बार ऐसी महिलाओं को जूनून copper-t लगवा रखा है उन्हें खून में दाग जैसी परेशानियां भी देखने को मिली है परंतु, यह कोई विशेष परेशानी नहीं है, इसका भी उपचार आप डॉक्टर से परामर्श लेकर कर सकते हैं।

निष्कर्ष :-

आज के समय में जो महिलाएं शीघ्र गर्भ धारण नहीं करना चाहती उनके लिए यह सबसे सटीक और सुरक्षित उपाय हो सकता है।यदि आपके मन में इस लेख को पढ़ने से पहले इस विषय से संबंधित किसी भी प्रकार की कोई भी क्वारी रही होगी, तो हमें उम्मीद है, वह अवश्य इस लेख को पढ़ने के बाद पूर्ण हो चुकी होगी।

FAQ :-

प्रश्न: copper-t लगवाने के बाद कितने समय के लिए महिलाएं गर्भधारण नहीं कर सकती हैं ?

उत्तर :- इसके इस्तेमाल से महिलाएं 3 वर्ष से लेकर 5 वर्ष तक अपने अनुसार गर्भधारण नहीं कर सकती हैं।

प्रश्न: copper-t अपने कार्य को करने में कितने प्रतिशत तक प्रभावशाली सिद्ध होता है ?

उत्तर :- डॉक्टर बताते हैं, कि copper-t अपने कार्य को 99% तक प्रभावशाली रूप में अंजाम देता है और यह एक सुरक्षित रूप से महिलाओं को अनचाहे गर्भधारण से बचाता है।

प्रश्न: copper-t को कैसे लगवा सकते हैं ?

उत्तर :- copper-t को आप किसी भी चिकित्सक की सहायता से आसानी से लगवा सकते हैं और इसको लगवाने में आपको किसी भी प्रकार की समस्याएं नहीं आएंगे ?

प्रश्न: क्या copper-t का इस्तेमाल गैर कानूनी हो सकता है ?

उत्तर :- जी बिल्कुल नहीं यह गैरकानूनी नहीं है, अपितु यह सरकारी अस्पतालों में निशुल्क रूप में महिलाओं को लगाया जाता है।

प्रश्न: copper-t को हम कितने दाम पर खरीद सकते हैं या copper-t का मूल्य क्या है ?

उत्तर :- copper-t को आप ₹300 से लेकर ₹500 के बीच में इसके क्वालिटी के आधार पर खरीद सकती हैं।

प्रश्न: copper-t को महिलाएं कहां से खरीद सकते हैं ?

उत्तर :- copper-t को महिलाएं किसी भी मेडिकल स्टोर से खरीद कर किसी डॉक्टर विशेष के सहायता से इसे इस्तेमाल कर सकती हैं।

प्रश्न: क्या copper-t के इस्तेमाल से महिलाओं का वजन घटता है ?

उत्तर :- जी बिल्कुल नहीं copper-t के इस्तेमाल से महिलाओं का वजन नहीं घटता है।

- Advertisement -

Most Popular

Essay on Corona Warriors in Hindi | कोरोना योद्धाओं पर निबंध हिंदी में

आप सब तो जानते ही हैं कि आज के समय में पूरा विश्व कोरोना (Essay on Corona Warriors in Hindi) जैसी वैश्विक महामारी से...

Essay On My Home In Hindi | Mera Ghar Essay in Hindi

हम सब मानव जनजातियों के लिए रहने और आश्रय लेने के लिए एक निवास स्थान की जरूरत होती है जिसे हम सब घर कहते...

Essay on addiction in Hindi and His Causes and Effects of Technology

Essay on addiction in Hindi को सही से परिभाषित किया जाय तो इस का सीधा मतलब है बुरी आदत की लत। जब इंसान को...

Essay on Lord Buddha and Gautam in Hindi and His Full Life Story and Biography in Hindi

Essay on Lord Buddha and Gautam in Hindi: भगवान बुद्ध का जन्म लगभग 563 ईसा पूर्व में कपिलवस्तु के समीप लुंबिनी वन (आधुनिक रूमिंदाई...

Recent Comments