Home वजन घटना Baba Ramdev Diet Plan Weight Loss In Hindi | बाबा रामदेव डाइट...

Baba Ramdev Diet Plan Weight Loss In Hindi | बाबा रामदेव डाइट प्लान वेट लॉस इन हिंदी

- Advertisement -

Baba Ramdev Diet Plan Weight Loss In Hindi | बाबा रामदेव डाइट प्लान वेट लॉस इन हिंदी

आप भी कम समय मे अपना बजन कम करना चाहते है तो जरूर पढ़ें की कौन सा (Baba Ramdev Diet Plan Weight Loss In Hindi बाबा रामदेव डाइट प्लान वेट लॉस इन हिंदी) आपके बजन को कुछ ही दिनों में खत्म कर सकता है वो बस एक डाइट प्लान और कुछ योग के जरिये, जो है बाबा रामदेव का मोटापे को कम करने का डाइट प्लान।

बढ़ा हुआ बजन सिर्फ शारीरिक बीमारियों को जन्म नही देता बल्कि मानसिक बीमारियां भी मोटापे के कारण आपको घेर लेती है, आप चाहकर भी अपने आप से संतुष्ट नही रहते,आप स्वंम में कांफिडेंस की कमी महसूस करते है जो कही तो आपकी मेहनत को कम स्थान देता है।

Video Source By: YouTube

तो यहां आज हम बात कर रहे है बाबा रामदेव की बजन कम करने की डाइट प्लान के बारे में,चूंकि बाबा रामदेव प्राकृतिक औषधियो और योग के बल पर बिमारियों से लड़ते है तो आपको किसी नुकसान का भी डर नही है।
बाबा रामदेव का डाइट प्लान बजन कम करने के लिए I

हमने हमारे जीवन मे पौष्टिक भोजन को छोड़ कर बस स्वादिष्ट भोजन को जब से अपनाया है तब से हमारी जुबान के स्वाद तो बढ़िया हो गए है लेकिन हमारे शरीर पर इसका जो प्रभाव पड़ा है वो एक चौंकाने वाला है क्योंकि आजकल मोटापा युवावस्था से ही अपना असर छोड़ने लगा है ये हमारे बेहतर भविष्य के लिए अच्छा संकेत नही है क्योंकि एक अच्छा जीवन वही है जहां अच्छा स्वास्थ्य हो ।

हम अपने बड़े हुए बजन को लेकर चिंतित तो रहते है मगर अपनी स्वाद की आदत से मोह भी नही मोड़ पाते,बस हम ये चाहते है की कोई दवा खाकर हम ऐसे ही पतले हो जाए लेकिन क्या हमें पता है कि अंग्रेजी दवाएं हमे फायदे तो कम ही देती है मगर नुकसान ज्यादा ,तो आज हम यहां आपके लिए लाए है आयुर्वेद का पिटारा बाबा रामदेव के द्वारा मोटापा कम करने के लिए डाइट प्लान जो पूर्णता आयुर्वेदिक है इस बजह आपको कोई नुकसान भी नही होगा।

बजन बढ़ने का कारण – (Baba Ramdev Diet Plan Weight Loss In Hindi)

आवश्यकता अनुसार बजन होना जरूरी है लेकिन आवश्यकता से अधिक बजन कई परेशानियो का कारण बन जाता है।
इन कारणों से बढ़ रहा है बजन-

  1. खानपान में पौष्टिक चीजो का शामिल न होना।
  2. फ़ास्ट फ़ूड का अधिक मात्रा में खाना ।
  3. खाना को खूब चबाकर न खाया जाना।
  4. खाने को बार-बार कम समयान्तराल में खाना।
  5. खाने के बाद कोई शारीरिक क्रिया न करना।
  6. ज्यादा नींद लेना और ज्यादा तनाव में रहना।
  7. सुबह न टहलना।
  8. सुबह देर में उठना।

ये सभी मुख्य कारण है आपके मोटापे के और फिर आपका मोटापा कारण बनता है कई सारी बीमारियों का जो हार्ट प्रॉब्लम से लेकर ,कोलेस्ट्रॉल ,घुटनो में दर्द और के तरह की गंभीर बिमारियों की बजह बनता है,रामदेव बाबा जी बताते है एक शोध में पाया गया कि मोटे लोगों में कैंसर की संभावनाएं अधिक रहती है।

क्या खाए-

  1. आप दलिया खा सकते है।
  2. आप भिन्न-भिन्न प्रकार की दालें खा सकते है।
  3. आप अपनी डाइट में हरी सब्जीयों को ले सकते है।
  4. आप लौकी जूस भी ले सकते है।
  5. आप सूप, फल,सलाद भी खा सकते है।
  6. आप फाइबर फ़ूड भी कहा सकते है।

क्या न खाएं-

  1. आपको गेहूं और चावल कम खाएं।
  2. आपको फ़ास्ट फ़ूड नही खाना है।
  3. आप को चीनी-नमक का कम इस्तेमाल करना है।
  4. आप को चाय बिल्कुल नही पीना है।
  5. जितना हो सके तली चीजो से दूर रहे।
  6. गैरजरुरी अंग्रेजी दवाओं का सेवन न करे।
  7. आपको कम मसाले का खाना खाना है।

सुबह हल्का गर्म पानी पिएं-

आपको सुबह-सुबह उठकर सबसे पहले सादा पानी को आप नॉर्मल गर्म करके उसे धीमे-धीमे पियें,जिसकी आदत आपको हर रोज डालनी होगी वो भी सुबह में।

POPULAR BLOGS — Hindi Essay

उसके बाद योग करे-

योग में आप चाहे तो बाबा रामदेव के योग जो मोटापे को कम करने के लिए दिए गए है वो जरूर करे,जिनमे से प्रमुख हैं जो आपको करने ही है जो एक तो कपालभाति और दूसरा है अनुलोम-बिलोम तीसरा बज्रासन जो आपको खाना खाने के बाद करना है,आप चाहे तो सूर्य नमस्कार भी कर सकते है।

इसके बाद पीएं लौकी का जूस-

साधारणता आप मार्किट में मिलने बाली लौकी का जूस किसी जूसर के द्वारा निकाल ले लेकिन अगर जूसर नही है आपके पास तो आप लौकी को किसी बर्तन में डालकर पीस ले फिर किसी सादे कपड़े पर रखकर निचोड़ लें,जिसे आपको कम से कम एक ग्लास पीना है,जो आपको बेहतर इम्युनिटी देगा।

आयुर्वेद दवा-

इसके साथ ही आप ले सकते है आयुर्वेदिक दवा जो मोटापे के लिए बेहतर नतीजे देती आ रही है वेदोहर वटी,आपको परेशान होने की जरूरत नही है ये आपको आपके नजदीकी पतजंलि केन्द्र पर उचित मूल्य में मिल जाएगी जिसे आपको सुबह और शाम खाना है साथ मे आप गिलोय भी ले सकते है वो भी आपको केंद्र से पतजंलि मिल जाएगा।

दोपहर का भोजन

आप भोजन में दलिया,दालें और हरी सब्जियों को ले सकते है,आप अपने भोजन में सलाद,सब्जियों के सूप को भी जगह दे सकते है।
भोजन से अपने पेट को 60 प्रतिशत ही भरे थोड़ा खाली रहने दे,खाने को खाने के बाद आप बैठे या लेटें नही बल्कि थोड़ा टहल ले ज्यादा नही तो कम से कम 30 कदम तो जरूर चले।

दोपहर के बाद- दोपहर के बाद आप ज्यादा कुछ न खाएं तो ही बेहतर होगा हा आप एक ग्लास नॉर्मल जूस या फल खा ले लेकिन बार बार नही,क्योंकि जब हम खाने को बार-बार खाते है तब खाना हमारे शरीर मे एक बार खाने से अधिक कैलोरी देता है जो आदत हमारे बजन बढ़ने की ज्यादा जिम्मेदार है।

शाम का भोजन-

शाम को जितना कम हो सके उतना कम खाना खाएं क्योंकि शाम के खाने की बजह से मोटापा ज्यादा हावी होता है क्योंकि सुबह के खाना खाने के बाद हम अपनी जरूरतों के लिए थोड़ा बहुत चल लेते है मगर शाम के खाने के बाद लेट जाते है जो नुकसानदेय है तो आप शाम के खाने के बाद भी थोड़ा टहल ले।

व्रत रखना-

हमारे धार्मिक ग्रंथों में कई चीजो का जिक्र है जो हमारे धर्म के साथ-साथ हमारे शरीर और स्वास्थ्य के लिए भी लाभप्रद है जैसे कि व्रत करना।
हमारे हिन्दू धर्म मे ऐसा कहा जाता है कि भगवान को प्रसन्न करने के लिए व्रत रखा जाना चाहिए,तो व्रत हमारे शरीर के लिए भी बहुत फायदेमंद है कोशिश करनी चाहिए कि हर किसी को सप्ताह में न सही तो कम से कम 15 दिन में एक बार व्रत जरूर रखना चाहिए जो हमारे पेट,पाचनतंत्र को आराम देता है और मोटापे को बढ़ने नही देता,व्रत में आप एनर्जी के लिए कुछ फल फ्रूट खा ले जो जरूरी हो।

ऊपर बताई गई जानकारी बाबा रामदेव के डाइट प्लान से संबंधित है जो मोटापे को कम करती है, तो जिसके रिजल्ट बहुत सारे सामने आए है,
कम समय मे लोगो ने अपनी डाइट और दिनचर्या में बदलाव कर कई किलो बजन कम किया है।
अगर आप ऊपर दिए गए उपायों को नियमित रूप से करते है और साथ मे योगाभ्यास भी करते है तो आप 2 महीने में ही 10 से 20 किलो बजन कम कर सकते है।

- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Essay on Corona Warriors in Hindi | कोरोना योद्धाओं पर निबंध हिंदी में

आप सब तो जानते ही हैं कि आज के समय में पूरा विश्व कोरोना (Essay on Corona Warriors in Hindi) जैसी वैश्विक महामारी से...

Essay On My Home In Hindi | Mera Ghar Essay in Hindi

हम सब मानव जनजातियों के लिए रहने और आश्रय लेने के लिए एक निवास स्थान की जरूरत होती है जिसे हम सब घर कहते...

Essay on addiction in Hindi and His Causes and Effects of Technology

Essay on addiction in Hindi को सही से परिभाषित किया जाय तो इस का सीधा मतलब है बुरी आदत की लत। जब इंसान को...

Essay on Lord Buddha and Gautam in Hindi and His Full Life Story and Biography in Hindi

Essay on Lord Buddha and Gautam in Hindi: भगवान बुद्ध का जन्म लगभग 563 ईसा पूर्व में कपिलवस्तु के समीप लुंबिनी वन (आधुनिक रूमिंदाई...

Recent Comments