Home हेल्थ Advantages and disadvantages of Khobrail (coconut) oil | खोबरेल (नारियल)  तेल के...

Advantages and disadvantages of Khobrail (coconut) oil | खोबरेल (नारियल)  तेल के फायदे एंव नुकसान

- Advertisement -
- Advertisement -
- Advertisement -

Advantages and disadvantages of Khobrail coconut oil: नारियल तेल यानि खोबरेल तेल आज पूरी दुनिया में सबसे ज्यादा उपयोग किया जाने वाला तेल है। इस तेल का उपयोग खाना पकाने से लेकर अनेक दवाओं एंव आयुर्वैदिक दवाओं में किया जाता है। हम सब जानते हैं की नारियल में कितने गुण होते है और सूखे नारियल से ही उसका तेल निकाला जाता है। ऐसे में नारियल का तेल कितना गुणकारी होता होगा। आज इस आर्टिकल में आपको खोबरेल (नारियल) तेल के फायदे और नुकसान बताने वाला हूँ और नारियल तेल से जुड़ी अनेक ऐसी बातें बताने वाला हूँ जो शायद आपको पता नहीं होगी। तो आइये जानते है नारियल तेल के बारें में – 

Table of Contents

नारियल तेल कैसे निकाला जाता है 

क्या आपने कभी नारियल से तेल निकालते देखा है ? शायद नहीं क्योंकि भारत के कुछ हिस्सों में ही नारियल का तेल निकाला जाता है। नारियल तेल निकालने की प्राचीन विधि बहुत आसान और सबसे अच्छी विधि मानी जाती है। इस विधि में सबसे पहले पक्के हुए नारियल तोड़े जाते है और उसमे से गुद्दा निकला जाता है। अब इस गुद्दे को महीन करते है तो नारियल का दूध बन जाता है, अगर आसानी से नारियल का दूध नहीं बनता है तो कुछ लोग इसमें पानी मिलाते हैं। जब दूध बनकर पूरी तरह से तैयार हो जाता है तो उसे एक बर्तन में निकालकर 24 घंटे के लिए छोड़ दिया जाता है। अब पानी निचे रह जाएगा और नारियल का तेल बर्तन में उपर आ जाता है और नारियल तेल को आसानी से अलग कर दिया जाता है। यह सबसे प्राचीन और सबसे अच्छी विधि है नारियल तेल निकालने की। 

नारियल तेल कितने प्रकार का होता है 

यदि आप नारियल तेल के फायदों के बारें में जानना चाहते है तो आपको नारियल तेल कितने प्रकार के होते है उनकी भी जानकारी होनी चाहिए। हालाँकि शुद्ध नारियल तेल तो एक ही प्रकार का होता है पर आज नारियल तेल को अनेक प्रकारों में बांटा गया है तो इसकी जानकारी भी हमें होनी चाहिए। नारियल तेल आज के समय में चार प्रकार के होते हैं – 

ऑर्गेनिक नारियल (खोबरेल) तेल – नारियल तेल में सबसे ज्यादा डिमांड वाला तेल ऑर्गेनिक नारियल तेल है। क्योंकि यह उन पेड़ों के नारियल से बना होता है जिनमे किसी भी तरह का रासायनिक खाद उपयोग में नहीं लिया गया होता है। इन पेड़ों के नारियल तेल को सबसे ज्यादा गुणकारी तेल माना जाता है। 

नॉन ऑर्गेनिक नारियल तेल – नारियल तेल का यह प्रकार उन पेड़ों से प्राप्त होता है जिनमे रसायनिक खाद का उपयोग किया जाता है और कम समय में अधिक नारियल की उपज करवाई जाती है। इन पेड़ों से प्राप्त नारियल के तेल को नॉन ऑर्गेनिक नारियल तेल कहा जाता है। 

रिफाइंड नारियल तेल – सूखे नारियल से जो तेल प्राप्त किया जाता है उसमे कुछ सफ़ेद कलर दिया जाता है। ऐसे नारियल तेल को रिफाइंड नारियल तेल यानि अनवर्जिन नारियल तेल कहा जाता है। यह तेल खुशबूदार और दिखने में बहुत ही अच्छा होता है। हालाँकि गुणों के मामलों में लोग इसे खरीदना कम पसंद करते हैं। 

वर्जिन नारियल तेल – सबसे ज्यादा उपयोग किया जाने वाला नारियल तेल है वर्जिन नारियल तेल ( अनरिफाइंड नारियल तेल)। क्योंकि यह शुद्ध और ताजा फलों से तैयार किया जाता है। इस तेल बनाने की विधि में पेड़ से फल टूटने के दुसरे दिन उसका तेल तैयार हो जाता है। इसलिए इसे वर्जिन नारियल तेल भी कहा जाता है। यह सबसे ज्यादा गुणकारी और उपयोगी नारियल तेल होता है। 

नारियल तेल के गुण एंव उसके फायदे (Advantages and disadvantages of Khobrail coconut oil)

नारियल हर समय हमारे किसी ना किसी काम आता है इसे हम पूजा में भी उपयोग करते है और नारियल पानी हमारी इम्युनिटी बढाने का काम करता है और अगर कच्चा नारियल खाया जाए तो यह हमारें अनेक रोग खत्म कर देता है। नारियल तेल के भी अनेक फायदे हैं, इन फायदों को हम क्रम में लिख रहे हैं। नारियल तेल के निम्न फायदे हैं – 

 बालों के लिए नारियल तेल के फायदे (Benefits of coconut oil for hair)

नारियल तेल बालों के लिए ठीक वैसे ही काम करता है जैसे आज के समय मास्क काम कर रहा है। अगर रोजाना बालों में नारियल तेल लगाया जाए तो बाल लम्बे, घने और रोग मुक्त होते हैं। क्योंकि नारियल में प्रोटीन के गुण होते है और बालों को प्रोटीन की जरूरत ऐसे में आप नहाने से पहले और नहाने के बाद दोनों समय नारियल तेल का उपयोग कर सकते हैं। नारियल तेल को गर्म करके लगाने से बालों में खुजली या बालों में जूं नहीं पड़ती है। 

फंगल प्रॉब्लम को रोकता है नारियल तेल 

यदि त्वचा पर नारियल तेल लगाया जाए तो संक्रमण से फैलने वाले रोग नहीं होते हैं। क्योंकि इसमें एंटीफंगल गुण होते है और यह संक्रमण से होने वाले त्वचा रोगों को रोकता है। त्वचा संबधित और भी बहुत सारे नारियल के फायदे हैं। 

हाई ब्लड प्रेशर और किडनी संबधित बिमारियों में नारियल तेल के फायदे 

यदि किसी को हाई ब्लड प्रेशर या किडनी संबधित बीमारी है तो वह नारियल तेल में बना हुआ खाना खाएं। इसमें बना हुआ खाना खाने से किडनी प्रॉब्लम में राहत मिलती है और आपका ब्लड प्रेशर कंट्रोल रहता है। 

ह्रदय रोगियों के लिए नारियल तेल के फायदे 

नारियल में एंटीओक्सिडेंट और एंटीइफ्लेमेंट्री गुण होते है, यही वजह है की हृदय रोगी को नारियल के तेल में बने खाने का सेवन करने के लिए कहा जाता है। क्योंकि नारियल तेल हमारी रक्त वाहिनियों को साफ़ करता है और हमें हृदय रोग से निजात दिलाता है। 

पेट पर बने स्ट्रेच मार्क को हटाता है नारियल तेल 

जब महिलाएं गर्भवती होती है तो उनके पेट पर निशान बनने लगते हैं, इन्ही निशानों को स्ट्रेच मार्क कहा जाता है। बच्चे के जन्म के तुरंत बाद से अगर इन मार्क्स पर नारियल तेल लगाया जाए वो भी वर्जिन नारियल तेल तो यह निशान पूरी तरह से गायब हो सकते हैं। 

घुटने, कमर दर्द जैसी प्रॉब्लम को सही करता है नारियल तेल 

नारियल तेल में बने खाने का सेवन करने से आपको कमर दर्द, घुटनों का दर्द और गठिया जैसी प्रॉब्लम से निजात मिल जायेगी। इसमें कैल्शियम और मैग्नीशियम की खूब मात्रा होती है। इसलिए यदि आप ऐसी प्रॉब्लम का सामना कर रहे है तो आज से ही नारियल तेल में बना खाना ही खाएं। 

स्किन बर्न जैसी त्वचा की बिमारियों से निजात दिलाता है नारियल तेल 

नारियल का तेल त्वचा के लिए बहुत लाभकारी होता है, इसलिए हमेशा त्वचा पर नारियल तेल लगाने की हिदायत दी जाती है। नारियल तेल में त्वचा को पुनर्जीवित करने का गुण होता है। अगर आपकी त्वचा रुखी और डल हो गई है तो आप नारियल तेल का उपयोग निरंतर करें आपको बहुत जल्द अच्छा परिणाम मिलेगा। स्किन बर्न की प्रॉब्लम से भी निजात दिलाता है नारियल तेल। 

मोटापा कम करने में मदद करता है नारियल तेल 

नारियल तेल में बना हुआ खाना आपके कोलेस्ट्रोल के स्तर को घटाता है, इसी वजह से आपका मोटापा कम हो सकता है। हालाँकि मोटापा पूरी तरह से कम करता है ऐसा किसी भी शौधकर्ता या डॉक्टर ने दावा नहीं किया है पर नारियल तेल में कोलेस्ट्रोल कंट्रोल करने के गुण मौजूद है इसी वजह से यह मोटापा कंट्रोल करने में साहयक है पर परिणाम बहुत धीरे-धीरे मिलते हैं। 

नारियल तेल के नुकसान क्या है (Advantages and disadvantages of Khobrail coconut oil) ? 

हमने नारियल तेल के फायदे तो पढ़ लिए है अब बात करने नारियल तेल के नुकसान क्या है। क्योंकि जो चीजें हमें बहुत फायदा देती है उनके कुछ ना कुछ नुकसान तो होते है ऐसे में नारियल तेल के क्या नुकसान है वो भी पढ़ लेते हैं। यह निम्न है – 

  • नारियल तेल के अधिक मात्रा में सेवन करने से डायरिया हो सकता है। 
  • अगर किसी को फलों से एलर्जी है तो ऐसे लोगों को नारियल तेल को त्वचा पर लगाने से बचना चाहिए। 
  • एंटीफंगल गुणों के कारण नारियल तेल उन लोगों के लिए खतरनाक हो सकता है जो पहले से किसी भी तरह की फ्लू की दवाइयां इत्यादि ले रहे हैं। 
  • नारियल तेल को बालों में अधिक लगाने एंव बालों को सही ना धोने पर बालों में एक तैलीय पदार्थ जमा हो जाता है जो आगे जाकर खुजली का रूप ले लेता है। इसलिए बालों में नारियल तेल लगायें तो बालों को अच्छी तरह धोएं। 
  • छोटे बच्चों को नारियल तेल का सेवन करवाने से बचें। 
  • नारियल तेल को ज्यादा देर तक मुहं में रखने के बाद उसे गटकने से आपके गले में खरांस हो सकती है। इसलिए अगर आप नारियल तेल का सेवन करते है तो इस बात का ध्यान जरुर रखें। 
  • वर्जिन नारियल तेल का उपयोग नहीं करने पर आपको सांस की बीमारी हो सकती है, इसलिए हमेशा अनरिफाइंड नारियल तेल का या फिर ऑर्गेनिक नारियल तेल का उपयोग करें। 

नारियल तेल में मौजूद पौष्टिक तत्व 

नारियल तेल में अनेक तरह के पौष्टिक तत्व मौजूद है। यह हमारे स्वास्थ्य के लिए बहुत जरूरी तत्व होते हैं। ऐसे में हमें पता होना चाहिए की नारियल में पौष्टिक तत्व कौन-कौनसे होते हैं। यह इस प्रकार है – 

  • जल 
  • उर्जा 
  • फैट 
  • कैल्शियम 
  • आयरन 
  • जिंक 
  • विटामिन-ई
  • विटामिन- के 
  • टोटल सैचुरेटेड फैटी एसिड 
  • टोटल मोनोअनसैचुरेटेड फैटी एसिड
  • टोटल पॉलीअनसैचुरेटेड फैटी एसिड

यह सभी पौष्टिक तत्व हमारे लिए बहुत जरूरी होते है जो हमें नारियल (खोबरेल) के तेल में मिल जाता है। 

निष्कर्ष 

आज हमने इस आर्टिकल में नारियल के तेल के बारें में जाना, हमने जाना की नारियल के तेल के क्या फायदे है, क्या नुकसान है और यह कितने प्रकार के होते हैं। हमने नारियल तेल की पूरी जानकारी देने का प्रयास किया है। अगर कोई सवाल जो नारियल तेल से जुड़ा है तो आप  कमेंट बॉक्स में पूछ सकते हैं। 

अक्सर पूछे जाने वाले सवाल 

Q 1 नारियल तेल का सेवन कितनी मात्रा में करना चाहिए ? 

A। एक दिन में आप 30ml तक नारियल तेल का सेवन कर सकते हैं। अगर आप रेगुलर सेवन कर रहे हैं और आपको किसी भी तरह की परेशानी नहीं है तो आप यह मात्रा बढ़ा सकते हैं। 

Q 2 क्या नारियल का तेल पी सकते हैं ? 

A।  नारियल तेल का सेवन आप खाने में कर सकते हैं, पर इसे पीने से परहेज ही रखना चाहिए। 

Q 3 नारियल तेल पिंपल्स सही करता है ? 

A। जी हाँ, हमने उपर आपको बताया है की त्वचा से जुड़ी हर परेशानी में यह काम करता है। नारियल तेल का उपयोग आप पिंपल्स सही करने के लिए भी कर सकते हो। 

Q 4  ज्यादा नारियल तेल का उपयोग करने पर क्या होगा ? 

A। किसी भी चीज का ज्यादा उपयोग हमें नुकसान की और लेकर जाता है, नारियल तेल के नुकसानों के बारें में हमने उपर विस्तार से बताया है। 

Q 5 असली  नारियल के तेल की पहचान कैसे होगी ? 

A। यह बहुत ही पेचीदा काम है फिर भी हम उसकी सुगंध और कलर के द्वारा पहचान कर सकते हैं। वर्जिन नारियल तेल में धीमी-धीमी नारियल की सुंगंध आती है और इसका कलर कुछ सफेद होता है।  

- Advertisement -

Most Popular

Essay on Indian army In Hindi | भारतीय सेना पर निबंध हिंदी में

Essay on Indian Army in Hindi में आज हम आपको Indian Army के विषय में essay on Indian Army life in Hindi, History of...

Essay On Cancer in Hindi | कैंसर पर निबंध हिंदी में

आज के इस लेख में हम कैंसर पर निबंध (Essay on Cancer in Hindi) लेकर आए हैं। इस निबंध का उपयोग कक्षा 1,2,3,4,5,6,7,8,9,10 11...

Essay On Importance Of Hard Work in Hindi | परिश्रम का महत्व पर निबंध हिंदी में

Essay On Importance Of Hard Work in Hindi: परिश्रम का महत्व हमारे जीवन मे कितना अधिक है यह हम सब भलीभांति जानते हैं, खासकर...

Essay on Hindi Diwas in Hindi | हिंदी दिवस पर निबंध हिंदी में

Essay on Hindi Diwas in Hindi: हिंदी भाषा का प्रभाव दुनियाँ में तेजी से बढ़ रहा है। इसकी एक वजह हिंदी भाषा का जमकर...

Recent Comments